वर्चुअल तरीके से मनाई गई आद्य संवाददाता देवर्षि नारद की जयंती

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जिले में प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी आद्य संवाददाता देवर्षि नारद की जयंती आभासी माध्यम से मनाई गई। देव ऋषि नारद की जयंती जेष्ठ कृष्ण द्वितीया के दिन मनाई जाती है। इस तिथि को ध्यान में रखकर पं0 जुगल किशोर ने हिंदी का प्रथम पत्र उदंत मार्तंड प्रकाशित किया था। इसी तिथि को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचार विभाग द्वारा आद्य संवाददाता देवर्षि नारद के जन्मदिन के रूप में प्रतिवर्ष मनाया जाता है। कोरोना वायरस के वजह से यह कार्यक्रम प्रत्यक्ष न मना कर आभासी माध्यम से मनाया गया। सर्वप्रथम जिला संघचालक हर्ष अग्रवाल व विभाग प्रचारक नितिन ने देवर्षि नारद की प्रतिमा पर माल्यार्पण व पुष्प अर्पित किया।

कार्यक्रम में जिले के वरिष्ठ पत्रकार मिथिलेश द्विवेदी, विजय शंकर चतुर्वेदी, भोलानाथ मिश्र, दीपक केसरवानी और काशी प्रांत से जे0पी0लाल पूर्व प्रोफेसर काशी हिंदू विश्वविद्यालय कृषि विभाग, वेद प्रकाश,अमरेश मिश्र आदि जुड़े थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता मिथिलेश द्विवेदी ने किया।

विशिष्ट वक्ता दीपक केसरवानी ने नकारात्मक पत्रकारिता न करने की प्रेरणा देते हुए कहा कि हम सकारात्मक सोच के द्वारा जनता और सरकार को प्रेरित कर सकते हैं, समस्याओं को उठा कर उसका निदान खोज सकते हैं और महामारी के संकट काल में सबको संबल देते हुए देश और समाज की सेवा कर सकते हैं।

विशिष्ट वक्ता विजय शंकर चतुर्वेदी ने कहा कि, यह नकारात्मक सोच का ही परिणाम है कि कई घरों में चैनल बंद करने की सलाह दी जा रही है क्योंकि नकारात्मक बातों को सुनने से हमारी इम्यूनिटी पावर कमजोर होती है। हम सकारात्मक सोचे और सबका सहयोग सबका विकास इस पर ध्यान दें। हमें भारत, भारतीयता और भारतीय संस्कृति के प्रति गौरवान्वित होना चाहिए। हम अपने जीवन में इन सब चीजों को समाहित करते हुए जो कुछ कर सकते हैं उसे अवश्य करना चाहिए।

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता जे0पी0 लाल ने कहा कि हमें केवल सरकार या व्यवस्था की आलोचना नहीं करनी चाहिए। पत्रकारिता का संदेश स्वयं आद्य संवाददाता देवर्षि नाराद से हमें ग्रहण करना चाहिए ।वे भगवान विष्णु के पास जाकर राक्षसों के उपद्रवों की सूचना ही नहीं देते थे बल्कि उसे समाप्त करने के लिए उन्हें प्रेरित भी करते थे। उसी प्रकार पत्रकारों को जहां समस्याएं हैं उसे तो प्रकाशित करना ही चाहिए और उसे समाप्त करने के लिए किस प्रकार एक्शन लिया जाए इस पर भी सार्थक पहल करनी चाहिए, अनावश्यक नकारात्मक चीजों को दिखाने से पत्रकारिता और व्यवस्था के प्रति वितृष्णा का भाव जगता है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मिथिलेश प्रसाद द्विवेदी, डॉ0 जे0पी0लाल के बौद्धिक से प्रभावित हुए और उन्होंने कहा कि, हमें मानवता के नाते सब की सेवा करनी चाहिए, हम देश के नागरिक पहले हैं पत्रकार बाद में। देवर्षि नारद की जयंती पर प्रतिवर्ष कार्यक्रम होना चाहिए और इस कार्यक्रम के माध्यम से पत्रकार बंधुओं को भी सच्ची प्रेरणा देने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए और बीच-बीच में इस तरह के कार्यशाला का भी आयोजन होना चाहिए। हमें राष्ट्रभक्ति से युक्त होकर कार्य करना चाहिए। पीत पत्रकारिता हमारा उद्देश्य नहीं हो सकता। कार्यक्रम का संचालन जिले के प्रचार प्रमुख नीरज सिंह ने किया व अतिथि परिचय जिला कार्यवाह बृजेश सिंह ने कराया।

कार्यक्रम में समाज के अन्य प्रबुद्ध लोगों के साथ विभाग कार्यवाह दीपनारायण, सह जिला कार्यवाह पंकज, नगर कार्यवाह संतोष, संपर्क प्रमुख महेश, नीरज सत्यारमण, एस0पी0 सिंह, अमरेश पांडेय व सुरेंद्र पांडेय आदि उपस्थित रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!