ब्लैक फंगस को लेकर अलर्ट, जिला अस्पताल की ओपीडी शुरू

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की रफ्तार धीमी जरूर हुई है, लेकिन अपने साथ ही अन्य तमाम तरह की परेशानी छोड़ रही है। इसकी वजह से संक्रमित व्यक्ति की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस के साथ यलो फंगस के शिकार हो रहे हैं। ऐसे में तमाम लोगों की आंखों की रोशनी भी चली गई है। गत दिनों दिल्ली में ब्लैक फंगस के सोनभद्र निवासी तीन मरीज मिलने के बाद सोनभद्र में भी इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया है। मरीजों को दिक्कत न हो, इसके लिए जिला अस्पताल में नेत्र रोग विभाग और नाक, कान, गला रोग के लिए ओपीडी खोल दी गई है।

मुख्य चिकित्साधीक्षक डॉ0 के0 कुमार ने बताया कि “म्यूकर माइकोसिस इंफेक्शन अर्थात ब्लैक फंगस दुर्लभ बीमारी है। यह एक से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलती। मगर कैंसर, डायबिटीज, ह्दय रोगियों, अस्थमा और टीबी जैसी घातक बीमारियों के साथ-साथ कोरोना की बीमारी भी है तो उन्हें अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। वजह, कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों को ब्लैक फंगस से अधिक खतरा है।
उन्होंने बताया कि जिले में अभी तक ब्लैक फंगस का कोई भी मरीज नहीं मिला है। यदि किसी भी व्यक्ति को इस बीमारी के लक्षण महसूस होते हैं तो वह चिकित्सकों से संपर्क करें।”

उन्होंने बताया कि “ब्लैक फंगस को ध्यान में रखते हुए जिला अस्पताल में आंखों के साथ कान, नाक और गले के मरीज चिकित्सकों से परामर्श ले सकते हैं। इसके लिए सुबह 10 से दोपहर 12 बजे तक ओपीडी में चिकित्सक मौजूद रहेंगे, इस दौरान मरीज इलाज करा सकते हैं। इन बीमारी से संबंधित अगर कोई मरीज भर्ती करने की स्थिति में होगा तो उसके लिए भी जिला अस्पताल में पर्याप्त व्यवस्था की गई है।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!