खबर का असर : गेहूं क्रय केंद्र साधन सहकारी समिति लौगपुर के प्रभारी के खिलाफ मामला दर्ज

गौरव पाण्डेय (संवाददाता)

– किसानों ने रात में पकड़ा था बिचौलिए की तौलता हुआ माल

जनपद न्यूज Live के खबर का बड़ा असर हुआ है । जनपद न्यूज live ने दिखाया था कि कैसे किसानों के गेंहूँ को दिन में न खरीदकर रात चोरी से बिचौलियों का माल खरीदा जा रहा है । इस खबर के बाद प्रशासनिक अमले में हड़कम्प मच गया और अब प्रशासन कार्यवाही के मूड में आ गयी है ।

बतातें कि फरीदपुर तहसील पीसीएफ द्वारा संचालित गेहूं क्रय केंद्र साधन सहकारी समिति लिमिटेड लौगपुर में गेहूं की तौल को लेकर किसानों और केंद्र प्रभारी के बीच अक्सर नोकझोंक की खबर सामने आती रही है। किसानों का आरोप था कि केंद्र प्रभारी द्वारा उनका का गेहूं कम तौल कर आढतियो का गेहूं चोरी-छिपे तौला जा रहा है । जिसके बाद किसानों ने 17 मई की रात्रि में गेहूं क्रय केंद्र पर अचानक पहुंचकर रात्रि में गेहूं की तौल होते हुए रंगेहाथ पकड़ लिया और उसका विरोध करना शुरू कर दिया और इसकी शिकायत उप जिलाधिकारी से की गई । किसानों ने रात्रि में गेहूं तौल का वीडियो भी बना लिया था।

जानकारी के मुताबिक किसानों की शिकायत पर उपजिलाधिकारी कुमार धर्मेंद्र ने 19 मई को क्षेत्रीय विपणन अधिकारी एवं जिला प्रबंधक पीसीएफ बरेली द्वारा संयुक्त रूप से निरीक्षण किया और अभिलेखों की जांच की । अभिलेखों में प्रथम दृष्टया निम्न कमियां पाई गई । गेहूं खरीद क्रय पंजिका में दिनांक 11 मई तक की खरीद का विवरण दर्शाया गया था जबकि ऑनलाइन पोर्टल पर दिनांक 19 मई तक की खरीद फीड की गई थी। गेहूं खरीद स्टॉक रजिस्टर दिनांक 1 मई तक का ही पूर्ण पाया गया जिसे बाद में जांच अधिकारियों की मौजूदगी में पूर्ण किया गया। बोरा रजिस्टर में भी दर्ज नहीं किए पाए गए ।डिस्पैच रजिस्टर में कोई इदाज नहीं किया गया है। प्रभारी द्वारा ऑनलाइन बोरा प्राप्त ना होने के कारण गेहूं खरीद ना होना बताया गया जब कि बोरा वास्तव में क्रय केंद्र पर प्राप्त था। किसी भी किसान का टोकन भी नहीं काटा गया और ना ही वेटिंग रजिस्टर पर कोई भी इदाज किया गया है। गेहूं क्रय से संबंधित किसी भी रजिस्टर को केंद्र प्रभारी द्वारा सत्यापित ही नहीं किया गया था।
पल्लेदार के रजिस्टर के अनुसार 5495 बोरे एवं 2747 – 50 कुंटल की तौल दर्शाई गई है जबकि केंद्र प्रभारी सचिव के द्वारा 4742 बोरी में 2371 कुंटल की खरीद की गई है ।1998 कुंटल गेहूं प्रेषण किया गया एवं केंद्र पर 373 कुंटल गेहूं अवशेष पाया गया मौके पर तौल कर रखे गए बोरों की रेडिम आधार पर तौल कराई गई जिसमें प्लास्टिक के बोरे में 50 -610 किलोग्राम, 50 – 92 किलोग्राम ,50 -620 किलोग्राम, 50 – 140 किलोग्राम, 50 -490 किलोग्राम ,बजन पाया गया। जूट के बोरे में 50- 920 ,50 -900 किलोग्राम भर्ती पाया गया ।

जिस पर संज्ञान लेते हुए उपजिलाधिकारी कुमार धर्मेंद्र ने 3 सदस्य टीम जिसमें क्षेत्रीय विपणन अधिकारी फरीदपुर अपर जिला सहकारी अधिकारी एवं जिला प्रबंधक पीसीएफ बरेली की टीम गठित कर 3 दिन के अंदर जांच कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं । उपरोक्त अनिमिताओ के अतिरिक्त जांच टीम के सामने कृषक अजय कुमार सिंह से दिनांक 23 मई को दूरभाष पर वार्ता करने पर उनके द्वारा बताया गया कि उन्होंने 54 बोरा गेहूं लौगपुर क्रय केंद्र पर बेचा था जिसमें प्रभारी सचिव द्वारा 51 किलोग्राम की दर से प्रति बोरा तौला गया उसके उपरांत उक्त कृषक द्वारा यह भी बताया गया कि 54 बोरे में 27 कुंतल का 1975 रुपया प्रति कुंतल की दर से रुपया 53325 बनता है मगर केंद्र प्रभारी द्वारा 26- 21 कुंटल की खरीद मानते हुए खाते में 51375 की धनराशि भेजी गई । इसी प्रकार कृषक रविंद्र सिंह निवासी ग्राम गोपालपुर से जानकारी करने पर बताया गया कि उनके द्वारा 29 कुंटल 50 किलो गेहूं बेचा गया जिसकी धनराशि प्राप्त हो गई किंतु केंद्र प्रभारी द्वारा खर्चे के नाम पर 15 सौ रुपए रिश्वत बतौर लिए गए। इस प्रकार जांच टीम द्वारा यह पाया गया कि पीसीएफ द्वारा संचालित गेहूं क्रय केंद्र एस एस एस लौगपुर के प्रभारी रामनरेश सिंह के द्वारा शासन की मंशा के अनुरूप कार्य न करके गेहूं क्रय नीति में दिए गए दिशा-निर्देशों का उल्लंघन किया है और उनके खिलाफ जिला प्रबंधक पीसीएफ बरेली की ओर से धारा 420 409 के तहत थाना फरीदपुर में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!