25 लाख हजम कर गए तत्कालीन प्रधान व सेक्रेटरी

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । पटेहरा ब्लाक अंतर्गत ग्राम पंचायत देवरी कला में गाय कैटल और बकरी कैटल के नाम पर लाखों रुपये हजम करने का मामला प्रकाश में आया है। इसमें अब तत्कालीन प्रधान और सेक्रेटरी पर कार्रवाई की तलवार लटक रही है।

पटेहरा ब्लाक के कई ऐसे गांव हैं जहां ग्राम प्रधानों ने गाय व बकरी कैटल सेट के नाम पर लाखों रुपये अपने करीबियों के नाम फर्म का गलत तरीके से रजिस्ट्रेशन कराकर मैटेरियल का बिल के माध्यम से भुगतान करा लिए हैं। उसी के सहारे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में भी जमकर धन उड़ाए गए।
अब उनको करारी हार तो मिली है, लेकिन ग्रामीण खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। देवरी कला गांव में गो कैटल पर 16.11 लाख रुपये तो बकरी कैटल पर 9.73 लाख रुपये हजम किया गया है। इसमें सात बकरी कैटल सेट और नौ गो कैटल के नाम से भुगतान हुआ है। ये है गो कैटल और बकरी कैटल
सरकार की मंशा थी कि गरीब व्यक्तियों को गाय और बकरी पालने के लिए सरकार द्वारा सहयोग किया जा सके, जिससे वह स्वावलंबी बन सकें। स्वावलंबी बनने से पहले ही उन्हें अधर में ढकेल दिया गया। किसी प्रकार से गरीबों ने अनुदान राशि पाने के लिए कर्ज लेकर गो और बकरी कैटल का निर्माण भी करा दिया। 179000 प्रति गो कैटल तो वहीं बकरी कैटल के नाम पर 139000 हजम कर लिया गया। गरीब लाभार्थियों को महज 40-40 हजार ही दिया गया। शेष रकम प्रधान व सेक्रेटरी ही हजम कर लिए। इससे अब ग्रामीणों में रोष है। इससे ग्राम विकास अधिकारी पर कार्रवाई की तलवार लटक रही है। ऐसा मामला देवरी कला में ही नहीं बल्कि मरचा, हसरा, मड़िहान, रामपुर रेक्शा आदि गांव में भी है।

बीडीओ पटेहरा दिनेश कुमार मिश्र ने बताया कि “कैटल शेड का धन फर्म को भुगतान किया जाता है। मामले की जांच कराई जाएगी, दोषी मिलने पर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!