डाला खनन हादसे की जांच शुरू, मृतक परिजनों की तरफ से जल्द मुकदमा दर्ज होने की उम्मीद, खनन क्षेत्र में पसरा सन्नाटा

संजय केसरी (संवाददाता)

डाला । जनपद न्यूज Live के खबर का बड़ा असर हुआ है । डाला खनन हादसे की आखिरकार जांच शुरू हो गयी । जनपद न्यूज Live ने ही सबसे पहले खबर चलाया था । सोमवार को पूरे खनन हादसे की जांच करने डीजीएमएस वाराणसी पहुंचे । उनके साथ अल्ट्राटेक के माइन्स अधिकारी व स्थानीय पेटीदार भी मौजूद रहे।

जांच टीम द्वारा खनन क्षेत्र में हर पहलुओं को बारीकी से देखा गया कि आखिर घटना के पीछे कारण क्या था।

जिस तरह से खराब मौसम के वावजूद विस्फोटक की सप्लाई हुई और होल भरा गया, यह अपने आप में बड़ा आरोप है और गंभीर प्रकरण है । ऐसे में विस्फोटक सप्लायर की भूमिका व उसके लाइसेंस रद्द करने की चर्चा भी जोरों पर है ।

बहरहाल इस सम्बंध में डीजीएमएस वाराणसी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि जांच चल रही है। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

आपको बतादें कि 20 मई को डाला स्थित एक खदान में होल भरते समय आचनक आकाशीय बिजली चमकने से विस्फोट में एक ब्लास्टर की मौत हो गयी थी । बाद में पता चला कि घटना में जिस ब्लास्टर की मौत हुई थी वह पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष अनिल यादव का सगा भतीजा था । घटना के एक दिन बाद ही अनिल यादव ने घटना स्थल का निरीक्षण कर जनपद न्यूज live को बताया था कि वे पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहे है, जिसके बाद मुकदमा दर्ज कराएंगे । यानी उसी समय से माना जा रहा था कि यह मामला तूल पकड़ेगा और आखिरकार आज जांच टीम पहुंचकर जांच शुरू कर दी ।

सूत्रों की माने तो जांच टीम इस बात की भी जांच कर रही हैं कि खदान में सेफ्टी का कितना ख्याल रखा जाता है क्योंकि यदि घटना वाले दिन सेफ्टी का ध्यान रखा गया होता तो इतनी बड़ी घटना नहीं घटती । हादसे के बाद से खदान में सनाटा पसरा हुआ है । चर्चा तो यह भी हैं कि प्रभाव के चलते असीमित विस्फोटक के साथ बड़ी संख्या में पेटीदार काम करते हैं जिससे मैनेजमेंट सही तरीके से नहीं हो पाता था ।

बहरहाल जांच रिपोर्ट के बाद ही साफ हो पायेगा कि कितनी बड़ी लापरवाही किसके तरफ से हुई । लेकिन जल्द ही अनिल यादव की तरफ से भी मुकदमा दर्ज कराये जाने की उम्मीद है। जिसके बाद पुलिस के एंगल से भी जांच शुरू हो जाएगी ।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!