लेखपाल के मकान अतिवृष्टि का रिपोर्ट बन गयी चर्चा, जांच की मांग

एस प्रसाद (संवाददाता)

– अरहर के टट्टर को लेखपाल ने दिखा दिया आंशिक अतिवृष्टि

– दीवाल की नदारत ही खोली पोल

म्योरपुर। सरकार के मंशा को धता बताकर एक लेखपाल किस तरह सरकारी धन बन्दरबाँट की मंशा पाल रहा है जो अतिवृष्टि का उसकी रिपोर्ट ही क्षेत्र में चर्चा आम हो गयी।विकास खण्ड अंतर्गत ग्राम म्योरपुर निवासी चंद्रावती पत्नी संजय रवानी के मकान का क्षेत्र का लेखपाल सुरेन्द्र नाथ पाठक आंशिक अतिवृष्टि का दस हजार क्षतिपूर्ति का रिपोर्ट तहसीलदार को भेज दिया है जबकि सच्चाई यह है कि किसी भी आपदा में मकान का आंशिक अतिवृष्टि हुआ ही नही लेखपाल का इतना करामात देखिए कि घर के दरवाजे पर अरहर के टट्टर से घेरा लगाया गया है उसी टट्टर को इधर-उधर बिखरा सा बनवाकर उसे आंशिक अतिवृष्टि दिखा दिया गया जहाँ कोई भी दीवाल है ही नही।दीवाल की नदारत ही काले कमाई की पोल खोल दी।योगी सरकार की साफ मंशा है कि अगर किसी भी आपदा में अचानक गरीबों का रहाइसी मकान क्षतिग्रस्त हुआ है तो सम्बंधित राजस्व कर्मियों के स्थलीय सत्यापन रिपोर्ट के आधार पर उन्हें क्षति पूर्ति मिलेगा।परन्तु लेखपाल लालच की मंशा से फर्जी रिपोर्ट उच्च अधिकारियों को भेज कर सरकार के पैसे का बन्दरबाँट करने की फिराक में पड़ गया है।ग्रामीण दिवाकर,विजय,बबलू,विनय,दिनेश,संतोष ने बताया कि कई गरीबों का मकान आंधी,तूफान, बरसात से गिरा हुआ है उसका रिपोर्ट नही लगा लेखपाल को जो पैसा देता है चाहे फर्जी ही क्यों न हो वह रिपोर्ट अधिकारी के पास पहुंच जाती है। जिलाधिकारी का ध्यान आकृष्ट कराया है कि मामले में लेखपाल के रिपोर्ट की जांच करायी जाय जिससे सचाई उजागर हो सके।इस सम्बंध में लेखपाल सुरेन्द्र नाथ पाठक ने कहा कि अतिवृष्टि नही है फिर से जांच किया जाएगा।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!