शोपीस बनकर रह गया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शाहगंज की बिल्डिंग

विवेक मिश्रा (संवाददाता)

– लाखों की बिल्डिंग बनकर तैयार मगर डाक्टर की तैनाती नहीं

शाहगंज । सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शाहगंज करीब एक साल बाद भी चालू नही हो पाया है । करीब तीस हजार आबादी के ग्रामीणों को स्वास्थ सुविधा मुहैया कराने का उद्देश्य से बनाया गया यह अस्पताल महज एक शोपीस बनकर रह गया है ।
जानकारी के मुताबिक तीस बेड वाला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शाहगंज का भवन पूर्ण होकर विभाग को हैंडओवर भी किया जा चुका है लेकिन अस्पताल में संबंधित स्टाफ की तैनाती शासन द्वारा नही की गई है। जिससे कारण यह शुरू नहीं हो सका । नजदीकी अस्पताल बनने के बाद भी इलाके के लोगो को अब भी जिला मुख्यालय पर ही जाना पड़ता हैं । वर्तमान समय में कोविड टीकाकरण के लिए उसी भवन का इश्तेमाल किया जा है । लेकिन स्वास्थ्य सम्बन्धी उपकरण व डॉक्टरों की तैनाती न होने की वजह से लाखों की यह यह बिल्डिंग शोपीस बनी हुई है ।
इस संदर्भ में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर नेम सिंह ने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शाहगंज में 70 फ़ीसदी सामानों की आपूर्ति की जा चुकी है बस संबंधित स्टाफ की भरपाई शासन स्तर से की जानी है।
बताते चलें कि इस अस्पताल में 4 डॉक्टर तीन फार्मासिस्ट 2lt अथवा एले 2 स्टाफ नर्स एनम 4 वार्ड बॉय के जब तक तैनाती नहीं हो जाती है तब तक यह अस्पताल ग्रामीणों के लिए वरदान साबित नहीं हो सकेगा । 30 हजार की आबादी पर 30 बेड का यह अस्पताल सपा शासन के कार्यकाल में इसकी आधारशिला रखी गई । लेकिन वर्तमान सरकार में इसकी शुरुआत तक नहीं हो सकी । आज भी इसका उद्घाटन अधर में लटका है ।
लोगों का कहना है कि गंभीर अवस्था में ग्रामीणों को जिला अस्पताल की शरण लेनी पड़ती है । ऐसे में पूरे क्षेत्र में यह चर्चा का विषय बना हुआ है आखिर इस अस्पताल को शुरू करने में अभी कितना समय और लगेगा ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!