पंचायत चुनाव में बजा समूह की महिलाओं का डंका, संभालेंगी जनप्रतिनिधि का भी जिम्मा

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

समूह की महिलाओं की फ़ाइल फोटो

सोनभद्र ।

“कौन कहता है आसमाँ में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों”, जी हां इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है जिले के स्वयं सहायता समूह की महिलाएं ने। घरों में रहने वाली महिलाएं जब राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन से जुड़ी तो उन्होंने बाहर की दुनिया देखी और कुछ करने की ठान ली। उनकी कड़ी मेहनत व लगन की देन है कि आज समूह की महिलाएं कई क्षेत्रों में काम कर रही हैं और नाम कमा रही हैं। समाज में अपनी एक अलग मुकाम बनाने में कामयाब होने वाली महिलाओं ने इस बार हुए पंचायत चुनाव में भी बेहतर प्रदर्शन किया। पंचायत चुनाव में इस बार एक नहीं, दो नहीं बल्कि 31 स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने विजय पताका फहराया है। अब वह महिलाएँ गांव की सरकार में जनप्रतिनिधि के रूप में अपनी दोहरी जिम्मेदारी से काम को अंजाम देंगी।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत स्वयं सहायता समूह से जुुड़ी महिलाओं ने पंचायत चुनाव में 31 पदों पर दमदार जीत हासिल कर अपना लोहा मनवाया है। वहीं विभाग के अधिकारी भी इस जीत से बेहद खुश हैं। उनका कहना है कि जो महिलाएं घर से नहीं निकलती थी आज जनप्रतिनिधि बन गयी हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि समूह की महिलाओं के चुने जाने से विभाग की योजनाओं के साथ गांव के विकास को भी धार मिलेगी।

बताते चलें कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में इस बार विभिन्न समूहों की 9 महिलाओं ने जहां विभिन्न गाँवों में प्रधानी की सीट पर कब्जा जमाया है। वहीं क्षेत्र पंचायत सदस्य की 6 तो ग्राम पंचायत सदस्य पद पर 16 महिलाओं ने जीतकर न सिर्फ विभाग का नाम रोशन किया है बल्कि महिला सशक्तिकरण को भी मजबूत किया है। एनआरएलएम से जुड़ी इन महिलाओं की जीत का ब्योरा शासन को भी भेजा गया है।

जिला मिशन प्रबंधक एम0जे0रवि ने कहा कि “एनआरएलएम से जुड़ी महिलाओं ने पंचायत चुनाव में सफलता हासिल की है। अब यह महिलाएं अपने दोहरी जिम्मेदारी को पूरी ताकत, लगन व मेहनत से निभाएं और सरकारी योजनाओं का लाभ पात्रों तक पहुंचाएं।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!