दिल्ली पुलिस का बयान- श्रीनिवास, गंभीर व अन्य लोग वास्तव में कर रहे हैं जनसेवा

अखिल भारतीय युवा कांग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी सहित विभिन्न राजनेताओं के खिलाफ कोविड-19 दवाओं की कालाबाजारी और अवैध वितरण के आरोपों पर प्रारंभिक रिपोर्ट में दिल्ली पुलिस ने दिल्ली हाईकोर्ट को बताया है कि ये सभी लोग स्वेच्छा से और बिना किसी भेदभाव के अन्य लोगों की मदद कर रहे हैं। इससे पहले पुलिस ने श्रीनिवास के अलावा आप विधायक दिलीप पांडे, बीजेपी सांसद गौतम गंभीर और अन्य से पूछताछ की थी ।

क्राइम ब्रांच कोर्ट को रिपोर्ट पेश करते हुए कहा, “अब तक की गई जांच से पता चला है कि जिन लोगों पर दवाओं और स्वास्थ्य उपकरण की जमाखोरी करने का आरोप है, वे वास्तव में लोगों को दवा, ऑक्सीजन, प्लाज्मा या अस्पताल के बिस्तर के रूप में चिकित्सा सहायता प्राप्त करने में मदद कर रहे हैं । जरूरतमंदों को दी सहायता के लिए किसी को धोखा नहीं दिया गया है । यह सहायता पूरी तरह स्वैच्छिक है और बिना किसी भेदभाव के की गई है ।

इससे पहले श्रीनिवास और अन्य से क्राइम ब्रांच ने पूछताछ की थी । इस दौरान कोर्ट ने आरोप लगाया था कि मेडिकल माफियाओं और राजनेताओं की सांठगांठ से दवाओं का अवैध वितरण किया जा रहा है। वहीं, 4 मई को जस्टिस विपिन सांघी और रेखा पल्ली की खंडपीठ ने सीबीआई जांच की अपील को खारिज करते हुए याचिकाकर्ता डॉक्टर दीपक सिंह को पुलिस से संपर्क करने को कहा. कोर्ट ने आरोपों की जांच पर पुलिस से स्थिति रिपोर्ट भी मांगी थी ।इस संदर्भ में कोर्ट ने पुलिस को जल्द से जल्द जांच कर रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए थे ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!