लगातार दूसरे दिन संविदा स्वास्थ्य कर्मियों ने काली पट्टी बांध किया कार्य

आनंद कुमार चौबे (संवाददात)

सोनभद्र । विभिन्न मांगों को लेकर संविदा स्वास्थ्य कर्मियों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। आज दूसरे दिन भी नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत संविदा स्वास्थ्य कर्मियों ने फार्मासिस्ट मनोज कुमार के नेतृत्व में तथा आरबीएस की टीम ने डॉ0 अंजनी द्विवेदी के नेतृत्व में काली पट्टी लगाकर कार्य किया। इस दौरान अगर सरकार मांगें नहीं मानती है तो सभी संविदा कर्मी कार्य बहिष्कार के लिए बाध्य होंगे।

इस दौरान राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संघ के जिलाध्यक्ष डॉ0 अरुण चतुर्वेदी ने कहा कि “हम सभी संविदा कर्मी दिन रात कोरोना काल में अपनी जान जोखिम में डालकर सेवा दे रहे हैं, लेकिन सरकार हम पर बिल्कुल ध्यान नहीं दे रही है। जनपद में 500 और पूरे प्रदेश में 80 हजार से भी अधिक संविदा कर्मचारी विभिन्न पदों पर कार्यरत हैं। प्रदेश सरकार द्वारा वैश्विक महामारी कोरोना काल में 25% वृद्धि कर प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा किया था जो सिर्फ लॉलीपॉप सिद्ध हो रहा है। सरकार ने इसकी घोषणा तो कर दी है किंतु कोविड-19 में अपनी जान की परवाह किए बगैर रात-दिन अपनी सेवाएं दे रहे एनएचएम कर्मियों को अभी तक इसका कोई लाभ नहीं मिला है। इतना ही नहीं पूर्व की मांगों ‘समान कार्य-समान वेतन’, स्थानांतरण प्रक्रिया चालू करने समेत अन्य मांगें भी लंबित पड़ी है। उन्होंने माँग किया कि सरकार द्वारा दिया जाने वाले 25% प्रोत्साहन राशि को मूल वेतन में जोड़ा जाए। यदि सरकार व जिम्मेदार उच्चाधिकारी इस पर अतिशीघ्र कोई सकारात्मक पहल नहीं करते हैं तो समस्त संविदा स्वास्थ्यकर्मी पूरे प्रदेश में कार्य बहिष्कार करने के लिए बाध्य होंगे, जिसकी समस्त जिम्मेदारी प्रदेश सरकार की होगी।”

वहीं आरआरटी टीम के डॉ0 अंजनी द्विवेदी ने कहा कि “कोरोना कॉल में बीते वर्ष से ही आरआरटी की टीम दिन-रात एक कर कोरोना संक्रमित मरीजों को होम आइसोलेट करने में मदद कर रही है और ऐसे वक्त में प्रदेश सरकार संविदा स्वास्थ्यकर्मियों के साथ दोहरा रवैया अपना रही है। यदि संविदा स्वास्थ्यकर्मियों की मांगों को जल्द से जल्द नहीं मानती है तो पूरे प्रदेश में होम आइसोलेशन के कार्य का बहिष्कार करने को बाध्य होंगे।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!