लॉक डाउन का सच : जिले में कागजों पर लॉक डाउन और धरातल पर चल रही दुकानदारी

संजय केसरी (संवाददाता)

डाला। जहाँ एक तरफ बढ़ते कोविड को देखते हुए सरकार ने लॉक डाउन लगाया है ताकि कोरोना चेन को तोड़ा जा सके । लेकिन जिले में सरकार के आदेशों की लोग किस तरह धज्जियां उड़ा रहे हैं उसकी तस्वीर ऊपर बयां हो रही है । प्रशासन की सुस्ती व अनदेखी के कारण अब लोगों में कानून का जैसे कोई डर ही नहीं रह गया । जब सारे जगहों पर दुकानें बंद करने का आदेश है वहीं गुरमुरा क्षेत्र के जवारीडाड़ में आज हाट लगा था । जिसमें बड़ी संख्या में लोग खरीदारी करने पहुंचे । जहां न सोशल डिस्टेंसिंग का पालन दिखा और न लॉक डाउन का । लोग बेखौफ तरीके से अपनी दुकानदारी करते नजर आए ।

आपको बतादूँ कि जवारीडाड़ में जो हॉट बाजार लगा है उसने मनिहारी, कपड़ा , जूता चप्पल, एवं मछली की भी दुकाने लगी हैं जबकि जवारीडाड़ के स्थानीय दुकानदार जारी गाइडलाइन के हिसाब से अपनी अपनी दुकानें बंद किए हुए हैं।

इस सम्बंध में चोपन थाना के एएसआई राजनारायण यादव ने कहाकि जब चोपन बाजार बंद हैं तो वहाँ हॉट बाजार भी नही लगना चाहिए अगर ऐसा है तो उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

लेकिन यहां बड़ा सवाल यह है कि आखिर लोगों में कानून का भय क्यों नहीं है आखिर किसके आदेश से यह हाट लगी ।

बहरहाल सही मायने में लॉक डाउन का मजाक तो शासन-प्रशासन ने खुद बना दिया है । जहां चंद दुकानों को बंद कर शासन – प्रशासन इसे अपनी सफलता मान रही है वहीं चुनावी भीड़ उनके इस सफलता को मुंह चिढ़ा रही है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!