जिला प्रशासन ने 11 विद्यालय का किया अधिग्रहण, बनाया क्वारंटाइन सेंटर

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

11 विद्यालयों में प्रवासियों को किया जाएगा क्वारंटाइन

सोनभद्र । मार्च 2020 में देश के अंदर जैसा नजारा था वैसा ही नजारा देखने को एक बार फिर देखने को मिल रहा है। प्रवासी मजदूर अपने गांव की तरफ पलायन करने लगे हैं। प्रवासी मजदूरों को डर है कि बेकाबू होते कोरोना की दूसरी लहर से देश में लॉकडाउन का एलान हो सकता है। साथ ही पंचायत चुनाव को लेकर भी बड़ी संख्या में प्रवासी वापस लौट रहे हैं। हालांकि लॉकडाउन नहीं लगाने को लेकर राज्य सरकारों ने स्पष्ट निर्देश जारी कर दिया है। लेकिन प्रवासी मजदूरों के आने से स्थिति विकराल न हो इसके लिए योगी सरकार ने दिशा निर्देश जारी कर दिया है।

भारी संख्या में प्रवासियों के जिले में आने से स्थिति और बिगड़ सकती है वहीं कोरोना की दूसरी लहर के खतरे को भांपते हुए जिला प्रशासन बाहर से आने वाले लोगों को क्वारंटीन में रखे जाने की तैयारी को अंतिम रूप देने में जुटा है। इसके लिए जिला प्रशासन ने क्षेत्र के विभिन्न 11 विद्यालयों का अधिग्रहण करते हुए उनमें बाहर से आने वाले मजदूरों व छात्रों को क्वारंटाइन किया जाएगा। जिसमें से इसके लिए क्षेत्र के विभिन्न 10 विद्यालयों को जिला प्रशासन ने अधिग्रहित करते हुए क्वारंटीन सेंटर बनाया है। यहाँ पर व्यवस्थाओं की देखरेख के लिए बाकायदा अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करते हुए ड्यूटी भी लगायी गयी है।

इस संबंध में जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया कि “जिले के कुल 11 विद्यालयों का अधिग्रहण किया गया है। जिसमें सजौर स्थित साईं नर्सिंग कॉलेज को आईसोलेशन सेंटर जबकि 10 अन्य विद्यालयों को क्वारन्टाइन सेंटर के रूप में विकसित किया गया है। साईं नर्सिंग कालेज पर कोविड -19 महामारी से संक्रमित पाये गये मरीजों को आइसोलेशन में रखे जाने हेतु मुख्य चिकित्साधिकारी उक्त कालेज पर आवश्यक चिकित्सकीय प्रबन्ध कर स्टाफ की व्यवस्था तत्काल सुनिश्चित करायेंगे। इसके अतिरिक्त 10 अन्य विद्यालयों को क्वारेन्टाइन सेन्टर के रुप में प्रयोग लाये जाने हेतु सम्बन्धित उप जिलाधिकारी अपने अधिकारी/कार्मिकों की आवश्यकतानुसार तैनाती करते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी माध्यम से अपेक्षित चिकित्सकीय उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित कराते हुए गैर प्रान्तों/जनपदों से आने वाले प्रवासियों के आगमन पर उनकी थर्मल स्क्रीनिंग करायेंगे। किसी प्रकार संकमण के लक्षण होने पर उन्हें क्वारेन्टाइन सेन्टरों में रखते हुए जॉचोपरान्त संक्रमित पाये जाने पर यथावश्यक कोविड अरपताल अथवा होम आइसोलेशन में भेजा जायेगा। लक्षणयुक्त संक्रमित न पाये जाने वाले व्यक्तियों को 14 दिवसों के लिये होम क्वारेन्टाइन में रखा जायेगा तथा लक्षण विहीन व्यक्तियों को उनके घरों में 7 दिवसों तक होम क्वारेन्टाइन में रखा जायेगा। उपर्युक्त आवश्यकता की पूर्ति हेतु जिला पंचायतराज अधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी नामित कार्मिकों की तैनाती करते हुए निर्देशानुसार कार्यवाही की जाय। सम्बन्धित क्षेत्रीय अधिशासी अधिकारी, नगर पालिका/नगर पंचायत द्वारा उक्त अधिग्रहित विद्यालयों पर आवश्यक साफ-सफाई एवं समुचित ढंग से सैनिटाइजेशन आदि आवश्यक व्यवस्था करेंगे। प्रत्येक क्वारेन्टाइन सेन्टरों पर आने वाले प्रवासियों का पूर्ण विवरण जैसे- नाम व पता तथा मोबाइल नम्बर आदि का उल्लेख करते हुए विवरण रजिस्टर रखना अनिवार्य रहेगा। इस रजिस्टर में आगमन एवं प्रस्थान का पूर्ण विवरण अंकित किया जायेगा तथा किसी भी व्यक्ति के प्रस्थान पर उसका हस्ताक्षर प्राप्त किये बिना वापस नहीं भेजा जायेगा।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!