डॉक्टर अंबेडकर समतामूलक समाज के प्रवर्तक थे – प्रोफेसर अलाउद्दीन खान

गौरव पाण्डेय (संवाददाता)

० धूमधाम से मनाई गई डॉ अंबेडकर जयंती

फरीदपुर (बरेली) । डॉक्टर अंबेडकर वेलफेयर सोसाइटी के तत्वाधान में अंबेडकर जयंती के अवसर पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया । बाबा साहब के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया ।गोष्ठी में बोलते हुए सोसाइटी के संरक्षक प्रोफेसर डॉ अलाउद्दीन खान ने कहा कि डॉ भीमराव अंबेडकर समतामूलक समाज के प्रवर्तक थे जिन्होंने सदियों से दबे कुचले शोषित व किसानों और निर्धनों के हितों की जीवन भर संघर्ष करते रहे। अंतत उनके अधिकार भारतीय संविधान के रूप में देने में सफल रहे । गोष्टी में बरेली कॉलेज के अंग्रेजी विभाग की अध्यक्ष डॉ चारू मेहरोत्रा ने कहा कि वे एक अत्यंत योग महान शिक्षाविद उत्कृष्ट कानूनी विधिवेत्ता और भारतीय संविधान के ड्राफ्टिंग कमेटी के अध्यक्ष के रूप में महत्वपूर्ण कार्य किया इसके लिए उन्हें हमेशा के लिए इतिहास में याद किया जाता रहेगा। गोष्टी की अध्यक्षता करते हुए डॉक्टर रतनलाल ने कहा कि वर्तमान में बाबा साहब के बताए शिक्षाओं में शिक्षित बनो संगठित रहो और संघर्ष करो की ज्यादा आवश्यकता है। गोष्ठी का संचालन करते हुए श्रीमती निवेता सागर ने कहा कि बाबा साहब का जीवन ना केवल हमारे देश के पिछड़ों दलितों और मजदूरों के लिए प्रेरणादायक है उन्होंने युवा वर्ग से शिक्षित और संगठित होकर ही देश और समाज हित में कार्य करने की अपील की है।गोष्ठी में डॉ धनपाल शर्मा, जावेद अहमद, हरपाल राठौर, मोहम्मद अजीम, तालिब अली मंसूरी, फहीमुद्दीन, नारायण लाल सागर ,दुर्गा प्रसाद सागर आदि लोग उपस्थित रहे । गोष्ठी का संचालन निवेता सागर ने किया।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!