विद्युत मीटर रीडर श्रमिकों ने एसडीओ फरीदपुर को सौंपा ज्ञापन

गौरव पाण्डेय (संवाददाता)

फरीदपुर । उत्तर प्रदेश पावर कार्पोरेशन लिमिटेड विद्युत वितरण मण्डल बरेली में कार्यरत विद्युत मीटर रीडर श्रमिकों ने अपनी समस्याओं चलते बरेली मण्डल में फ्लुएंटयिक लिमिटेड कम्पनी आंधप्रदेश को संबोधित एक ज्ञापन एसडीओ फरीदपुर को देने पहुंचे, लेकिन एसडीओ फरीदपुर ने मीटर रीडरों के ज्ञापन लेने से यह कहते हुए मना कर दिया । कि आप हमारे कर्मचारी नहीं हो। जिसके चलते मीटर रीडरों ने मामले की शिकायत फरीदपुर विधायक प्रोफेसर डॉ श्याम बिहारी लाल से की और उन्हें मामले के संबंध में ज्ञापन सौंपा। जिसमें मीटर रीडरों को कम्पनी द्वारा माह जानवरी 2021 से मार्च 2021 तक के वेतन का भुगतान अभी तक नहीं किया गया है। कंपनी अथवा विभाग को चाहिए कि जल्द से जल्द मीटर रीडरों के वेतन का भुगतान करें। वेतन का भुगतान प्रत्येक माह की 7 तारीख होना सुनिश्चित किया जाए। जिससे श्रमिकों को आर्थिक संकट का सामना न करना पड़े।
इसके साथ ही कंपनी द्वारा सरकार के नियमों को ताक पर रखकर दिन भर धूप में कड़ी मेहनत कर मीटर रीडिंग लेने वाले मीटर लीडरों को अभी भी 2000 रुपये से 4000 रुपये तक ही वेतन के रूप में दिए जाते हैं जोकि सरकार द्वारा तय न्यूनतम वेतन से बहुत कम है। श्रमिकों को न्यूनतम वेतन मजदूरी अधिनियम 1948 के अंतर्गत न्यूनतम वेतन का भुगतान किया जाना सुनिश्चित किया जाए। तथा सभी श्रमिकों को ज्वाइनिंग लेटर, ईपीएफ, ईसआई कार्ड उपलब्ध कराये जाएं।
मीटर रीडरों श्रमिकों को सक्षम अधिकारी हस्ताक्षरित पहचान पत्र, मीटर रीडिंग के कार्य में जो स्टेशनरी, मोबाइल डाटा ओटीजी केविल, पोप केविल, मोबाइल इत्यादि उपयोग में आने वाली वस्तुओं की व्यवस्था कंपनी द्वारा सुनिश्चित किया जाए। 5 विधुत मीटर रीडरों / श्रमिकों को लगातार दोषी ठहराते हुए गलत तरीके से बिना जांच के उन पर कार्रवाई किए जाने से मीटर रीडरों में आक्रोश व्याप्त है। लिहाजा मीटर रीडरों से संबंधित मामलों की जांचच के लिए विभागा अथवा कंपनी द्वारा कमेटी गठित की जाए। और जांच के बाद ही कोई कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। मीटर रीडरों को समान कार्य एवं समान वेतन दिलाया जाए जिससे उनके सामने आर्थिक संकट न खड़ा हो। मीटर रीडर जोकि नये रखे गए है, उन्हें कार्य करते हुए 4 से 5 माह हो गए है लेकिन उनको वेतन अभी तक नहीं मिला है, उन्हें वेतन जल्द से जल्द दिलाया जाए। इसके साथ ही प्रोप में बिल न बनने पर मीटर रीडरों को जिम्मेदार न समझा जाए। क्योंकि सभी मीटर रीडर अपना काम करते हैं। साफ्टवेयर की वजह से बिल नहीं बन पाते हैं तो उनकी कोई गलती नहीं। 19 मार्च 2021 को कंपनी के जोनल मैनेजर व किस्टल हेड लखनऊ से हुई वार्ता में यह आश्वासन मिला था कि आने वाली दिनांक 25 मार्च को सभी वेतन मिल जाएगा जो कि अभी तक प्राप्त नहीं हुआ है। जिससे मीटर रीडर आर्थिक संकट की मार झेल रहे हैं।
इन्हीं कारणों के चलते मीटर रीडर माह अप्रैल से कार्य नहीं करेंगे। लिहाजा उनकी मांगों पर अमल करते हुए विभाग अथवा कंपनी को चाहिए कि जल्द से जल्द मीटर रीडरों की मांगे मानते हुए सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं ताकि मीटर रीडर जल्द से जल्द अपने कार्य पर वापस आ सकें ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!