कोरोना संक्रमण बदल सकता प्रचार का तरीका संवाद व संपर्क के साथ सोसल डिस्टेंसनिंग तथा मास्क का टास्क

मनोहर कुमार

चंदौली । धान के कटोरे के रूप में ख्यातिलब्ध चंदौली जनपद में गांवों की सरकार चुनने के लिए घमासान शुरू होने वाला है।लेकिन इस पर कोरोना संक्रमण का खेल भी चल रहा है।संवाद,संपर्क व साथ निभाने में सोसल डिस्टेंसिंग तथा मास्क आड़े आ सकता है।बड़ते संक्रमण की संख्या से सरकार भी चिंतित है। प्रशासन इसके लिए निर्देश भी जारी कर रहा है। ऐसे में दावेदार अब केवल दूर से अभिवादन कर रहे हैं।
इस बार के पंचायत चुनाव में कोरोना संक्रमण का साफ असर नजर आ रहा है। जनपद में पिछले कुछ दिन से कोरोना संक्रमण के तेजी से फैलने के कारण दावेदार व मतदाताओं में उत्साह कम हो रहा है।
इस बार कोरोना संक्रमण के चलते कई जगह दावेदार मतदाताओं के घर भीड़भाड़ ले जाने के बजाय अकेले ही जनसंपर्क करने में जुटे हैं। यदि किसी दावेदार के साथ समर्थक होते हैं तो वह भी चुनिंदा ही नजर आ रहे हैं। समर्थकों को भी कोरोना संक्रमण का डर सता रहा है। इसलिए समूह में कम ही नजर आ रहे हैं। कई उम्मीदवार तो सुबह अकेले ही प्रचार पर निकलते हैं, जो रात तक घर लौटते हैं। विकास के वादों के साथ मतदाताओं से वोट मांग रहे हैं, वहीं मतदाता अभी पत्ते नहीं खोल रहे।
सोसल मीडिया पर सक्रियता
इस बार चुनाव प्रचार पर कोरोना का साया साफ नजर आ रहा है। इसके चलते भी इस बार पंचायत चुनाव में प्रत्याशी हाईटेक प्रचार पर अधिक जोर दे रहे हैं। दावेदार अकेले या चुनिंदा समर्थकों के साथ जनसंपर्क करने के साथ ही सोशल मीडिया के माध्यम से भी चुनाव प्रचार पर अधिक जोर दे रहे हैं। अधिकांश प्वाटसएप व फेसबुक के माध्यम से पिछले कई दिनों से चुनाव प्रचार में लगे हुए थे। अब नामांकन के बाद चुनावी तस्वीर साफ होते ही सोशल मीडिया पर चुनाव प्रचार बढ़ सकती है। युवा प्रत्याशी ज्यादा सोशल मीडिया से प्रचार पर जोर दे रहे हैं। कई युवा प्रत्याशी तो दिनभर में कई पोस्टें डाल रहे हैं। कोरोना कोरोना संक्रमण के चलते भी सोशल मीडिया के माध्यम से चुनाव प्रचार अधिक किया जा रहा है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!