गया हुआ रोजगार वापस आ जाएगा, जीवन वापस नहीं- उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को राज्य की जनता से संवाद साधा । मुख्यमंत्री ने रात 8.30 बजे सोशल मीडिया के माध्यम से जनता को संबोधित करना शुरू किया । मुख्यमंत्री ने इस दौरान साफ तौर पर लॉकडाउन की चेतावनी दी, लेकिन फिलहाल लॉकडाउन नहीं लगाया । मुख्यमंत्री ने कहा कि दो दिनों तक वे और भी कुछ विशेषज्ञों के साथ बैठक करेंगे तब फैसला लेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे मालूम है कि लॉकडाउन बेहद घातक उपाय है । अर्थव्यवस्था चलानी है तो लॉकडाउन लागू करना मुश्किल है । लेकिन गया हुआ रोजगार वापस आ जाएगा, जीवन वापस नहीं आएगा। लॉकडाउन हम टाल सकते हैं । लेकिन लॉकडाउन के बदले उपाय क्या है? मुझे सुझाव दीजिए ।

इस दौरान ठाकरे ने कहा कि लोग कहते हैं कि स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ाएं । हम तैयार हैं ना । सुविधाएं बढ़ा भी रहे हैं । बेड्स की कमी है, ऑक्सीजन की कमी है, वेंटिलेटर्स की कमी है । इन सारी कमियों को पूरा किया जा सकता है । लेकिन डॉक्टरों की कमी कैसे पूरी करें? यह बड़ी चुनौती है । अगर पेशेंट इसी तरह से बढ़े तो डॉक्टरों की कमी विकराल होती हुई दिखाई देगी ।लोग कहते हैं कि वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाओ । देश में महाराष्ट्र ही ऐसा राज्य है जिसने एक दिन में 3 लाख तक वैक्सीनेशन का रिकॉर्ड बनाया । 65 लाख नागरिकों वैक्सीनेशन हो गया है ।केंद्र से हमने और वैक्सीन की मांग की है ।

हर रोज 1 लाख 82 हजार टेस्टिंग शुरू, 2.5 लाख टारगेट
मुख्यंमंत्री ने कहा कि वैक्सीन लेना कोई कोविड नहीं होने की गारंटी नहीं है । इसलिए कोरोना नियमों का पालन जरूरी है ।पहले हम 75 हजार टेस्टिंग कर रहे थे अब 1 लाख 82 हजार टेस्ट किए जा रहे हैं । इसे ढाई लाख तक ले जाना है । इनमें भी ज्यादा RT-PCR टेस्टिंग करेंगे। राज्य में 70 प्रतिशत RT-PCR टेस्ट किए जा रहे हैं ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सितंबर में प्रतिदिन 24 हजार नए संक्रमित केस सामने आ रहे थे । अब 43 हजार तक नए केस सामने आ रहे हैं । मुंबई में रोज 8500 तक नए केस सामने आ रहे हैं । जनता की जान बचाने की जिम्मेदारी हमारी है । हम ये जिम्मेदारी समझते हैं।

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन उपाय नहीं है, लेकिन उससे पहले कोरोना से लड़ने के लिए दृढ़ निश्चय जरूरी है कि कोरोना को हम रोकने के लिए क्या करेंगे। सरकार लॉकडाउन लगाने जा रही है क्या? इसकी चिंता करने से ज्यादा जरूरी है कि हम ये सोचें कि हम कोरोना को रोकने के लिए क्या कर रहे हैं। सरकार को गरीबों की रोजी-रोटी भी बचानी है लेकिन उससे पहले हमें लोगों की जान बचानी है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!