जिलाधिकारी ने कोविड महामारी को लेकर सख्ती बरतने के दिए निर्देश

अबुलकैश (डब्बल)

* फर्जी रिपोर्टिंग कत्तई न हो: जिलाधिकारी

चन्दौली। जिलाधिकारी संजीव सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में कोविड-19 एवं नियमित टीकाकरण के अंतर्गत जिला टास्क फोर्स की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जिलाधिकारी ने सभी चिकित्साधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि कोविड महामारी के दृष्टिगत बाहर से आये हुए सभी व्यक्तियों का स्क्रीनिंग के साथ जांच अवश्य करें। पहले की तरफ जनपद में पूरी तरह से सख्ती बरतने की रणनीति लागू करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने चिकित्साधिकारी से कहा कोविड टीकाकरण का तीसरा चरण 01 अप्रैल से शुरू होना है इसके लिए सभी तैयारियां पूरी तरह दुरुस्त कर लिया जाय। जनपद में चिकित्सकीय टीम पूरी मुस्तैदी से कार्य करें, फर्जी रिपोर्टिंग कत्तई न हो।*एचीवमेंट प्रतिशत कम रहने पर नियामताबाद, धानापुर, चकिया व शहाबगंज के प्रभारी चिकित्साधिकारी सहित बीपीएम/बीसीपीएम के टीम को नोटिस जारी* किए जाने के निर्देश अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डीके सिंह को दिये। जिलाधिकारी ने निर्देशित करते हुए कहा कि निगरानी समितियों द्वारा बाहर से आए हुए व्यक्तियों की टेस्टिंग व पूरी डिटेल नोट किया जाए साथ ही उनको वैक्सीनेशन के लिए शत प्रतिशत प्रोत्साहित किया जाए। बाहर से आए हुए व्यक्तियों द्वारा होम आइसोलेट रहने पर स्वास्थ्य की जानकारी प्रतिदिन ब्लॉक लेवल पर कंट्रोल रूम बनाकर लिया जाए। जिलाधिकारी ने आरटीपीसीआर टेस्ट को अधिक से अधिक किए जाने पर जोर दिया।
जिलाधिकारी ने कहा कि 45 वर्ष के ऊपर वाले व्यक्तियों का 01 अप्रैल से कोविड वैक्सीन लगना शुरू हो जायेगा। जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि जिन आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों द्वारा अभी तक वैक्सीन नहीं लगवाया गया है, तत्काल अपना वैक्सीनेशन करा लें, इसमें लापरवाही न बरती जाए। साथ ही जिलाधिकारी ने जनपद में संचालित होने वाले फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम “(आईडीए)” का जनपद समन्वय समिति की बैठक में जिलाधिकारी द्वारा जिला पूर्ति अधिकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी (आईसीडीएस), जिला पंचायती राज अधिकारी, शिक्षा विभाग को आईडीए कार्यक्रम में शत-प्रतिशत सहयोग हेतु निर्देशित किया। जिलाधिकारी ने प्रभारी चिकित्साधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि आशा व एएनएम का समय से भुगतान सुनिश्चित की जाए साथ ही उनके द्वारा सभी घरों में फाइलेरिया मरीजों को चिन्हित किये जाने की कार्यवाही युद्ध स्तर पर किया जाए। ब्लॉक लेवल पर बैठक कर प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित हो। जनपद के सभी कोटे की दुकानों पर राष्ट्रीय फाइलेरिया कार्यक्रम का बैनर के माध्यम से गांव के लोगों को जानकारी दी जाएगी इसके लिए जिलाधिकारी ने जिला पूर्ति अधिकारी व मलेरिया अधिकारी को निर्देशित किया। जिला मलेरिया अधिकारी एवं सहायक मलेरिया अधिकारी द्वारा माइक्रोप्लान, दवा की खुराक, फेमिली रजिस्टर भरना, टीम का गठन आदि के बारे में विस्तार से जिलाधिकारी को व संबंधित अधिकारियों को कार्यक्रम के बारे में अवगत गया।
बैठक के दौरान जिला विकास अधिकारी पदमकांत शुल्क, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ डीके सिंह, जिला पंचायत राज अधिकारी ब्रह्मचारी दुबे जिला विद्यालय निरीक्षक, जिला पूर्ति अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी आईसीडीएस, जिला क्षय रोग अधिकारी जिला प्रतिरक्षण अधिकारी सहित अन्य चिकित्सक एवं संबंधित विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!