कार में जिलेटिन की छड़ें मिलने का मामला : NIA को जांच दिए जाने पर भड़के उद्धव ठाकरे, कहा- कुछ गड़बड़ है

मुंबई स्थित एंटीलिया के बाहर स्कॉर्पियो कार में जिलेटिन की छड़ें मिलने की जांच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने NIA को सौंप दी है । इस पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है । उन्होंने कहा कि इस मामले में कुछ गड़बड़ है ।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि आप सभी जानते हैं कि ATS मामले की जांच कर रही थी । जांच एजेंसियां किसी की निजी संपत्ति नहीं होती हैं । सरकारें बदलती हैं लेकिन सिस्टम नहीं बदलता है । सिस्टम पर विश्वास करने की जरूरत है ।

सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि अगर केंद्र मामले को अपने हाथ में लेने की कोशिश कर रहा है तो मामले में कहीं न कहीं कुछ गड़बड़ है । उन्होंने कहा कि हम एक और मामले की भी जांच कर रहे हैं, जो कि सांसद मोहन डेलकर की आत्महत्या से संबंधित है, विपक्ष को इस बारे में बोलने की कोई हिम्मत नहीं है क्योंकि वे जानते हैं कि केंद्र शासित प्रदेशों में किसकी चलती है।

बजट सत्र के बाद पत्रकारों से बातचीत में उद्धव ठाकरे ने कहा कि सांसद मोहन डेलकर की आत्महत्या के बाद जो सुसाइड नोट मिला उससे कुछ नामों के संकेत मिले थे । चाहे वो कितना भी बड़ा नाम हो, उसे बख्शा नहीं जाएगा । हिरेन मनसुख मामले की जांच पर उद्धव ठाकरे ने कहा कि सरकारें आती-जाती रहती हैं।सिस्टम को प्रभावित नहीं होना चाहिए। महराष्ट्र को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है । हिरेन मामले की जांच एटीएस कर रही है। इसी तरह सांसद मोहन डेलकर की आत्महत्या की जांच की जा रही है ।

NIA को जांच की जिम्मेदारी सौंपे जाने पर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने भी प्रतिक्रिया जाहिर की । उन्होंने कहा कि एटीएस कार चोरी और मनसुख हिरेन की मौत के मामले की जांच कर रही है । कुछ महीने पहले, केंद्रीय एजेंसियों ने इसी तरह से सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच की थी । उस मामले में अब तक कुछ नहीं हुआ है।

महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि जिलेटिन की छड़ें मिलने और हिरेन मनसुख की मौत का मामला जुड़ा हुआ है । सुप्रीम कोर्ट के कहने पर सुशांत सिंह के मामले को सीबीआई को सौंपा गया था, लेकिन इसकी जांच अभी बंद नहीं हुई है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!