जिलाधिकारी ने इकरा के साथ फीता काटकर किया अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस  समारोह का शुभारम्भ

अबुलकैश (डब्बल)

चन्दौली। अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर कृषि विज्ञान केन्द्र परिसर में मा0 विधायिका पीडीडीयू नगर श्रीमती साधना सिंह, जिलाधिकारी श्री संजीव सिंह की अध्यक्षता में भव्य रूप से विविध कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम के दौरान विशिष्टजनों, प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की शुरूआत हुयी। कार्यक्रम के दौरान मा0 विधायिका ने महिलाओं से अह्वाहन करते हुये कहा कि बेटी पैदा करना कोई अभिशाप नही है, हम सभी आज है तो अपनी माताओं की देन है। बेटियों कोे भी उतनी ही शिक्षा दें जितना कि पुत्र को मिलता है। लड़का लड़की गाड़ी के दो पहिया है दोनो का होना जरूरी है।
इस अवसर पर जिलाधिकारी ने सम्बोेधित करते हुये कहा कि मिशन शक्ति अभियान के तहत नारी सुरक्षा, नारी सम्मान, नारी स्वाब्लंवन के बारे में जागरूक किया जा रहा है। कहा कि महिलाओं के प्रति भेदभाव का कारण कही न कही हमारे समाज की परम्पराएं रही है, उसे बदलने की जरूरत है। उपस्थित लोगों को जिलाधिकारी ने पंक्तियों के माध्यम से बताया कहा कि ’’बस इतनी सी बात समन्दर को खल गयी, एक कागज की नाव मुझपे कैसे चल गयी’’। महिलाओं से अपील करते हुये कहा कि जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में महिलाओं को आगे आना होेगा, भागीदारी सुनिश्चित करनी होगी। शिक्षित महिला कई परिवारों को अच्छा मार्ग दिखाती है। प्रदेश सरकार के संचालित योजनाओं द्वारा महिलाओं को सशक्त व स्वावलंबी हो रही है। उनके द्वारा प्रत्येक क्षेत्र में बराबरी की भागीदारी सुनिश्चित की जा रही है। इससे महिलाओं को आगे बढ़ने का एक अच्छा अवसर मिल रहा है। जिलाधिकारी ने कहा भू्रण हत्या, बाल विवाह, महिलाओं के प्रति यौन अपराध पूरी तरह गलत है। बेटियों के प्रति नकारात्मक भाव न पैदा करें। समानता का अधिकार मिलना चाहिए, वो जो चाहती है उन्हें अवसर मिलना चाहिए। सरकार के द्वारा कई महत्वाकांक्षी योजनाओं को चलाया जा रहा है। ताकि उनके प्रति समाज में जागरूकता पैदा हो व हर क्षेत्र में आगे बढ़े। मिशन शक्ति कार्यक्रम का यही उद्देश्य है कि महिलाओं को समाज में बराबरी का हक मिले उनमें सुरक्षा का भावना पैदा हो। जो उनके प्रति गलत निगाह रखा जाता है ऐसे अपराधियों को चिन्हित किया जाय। और उन्हें कड़ी से कड़ी सजा दी जाय। जनपद चन्दौली में महिला उत्पीड़न करने वाले ऐसे 14 लोगों को कारावास की सजा दिलायी गयी है। प्रदेश में सभी थानों में महिला हेल्फ डेस्क खोला गया है ताकि महिला थाने में जाकर अपनी बात कह सके। एन्टीरोमियों के लिए सादें कपड़े में महिला पुलिस कर्मियों कोे लगाया गया है ताकि मानिटर कर सके कोई बालिका के प्रति गलत निगाह से नही देख रहा व क्षेड़खानी तो नही कर रहा है। उन्होनें कहा कि भु्रण हत्या पूरी गलत है, लिंग की जाॅच कत्यई न हो इस दिशा में जिला प्रशासन पूरी मुस्तैदी से कार्य कर रहा है। सभी अभिभावक से अपील करते हुये कहा कि भु्रण हत्या न हो इसके प्रति जिम्मेदार बने। प्रसव के बाद बालिका ने जन्म लिया है तो पूरा टीकाकरण कराये। उन्होनें कहा कि महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए कन्या सुमंगला योजना, बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं अभियान चलाया जा रहा है। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत महिलाओं की छोटे-छोटे समूह बनाकर स्वावलंबी हो सकती है। स्वंय की रोजगार कर सकती है। अपने परिवार का भरण-पोषण अच्छी प्रकार कर सकती है। जब महिला स्वंय से पैसा कमाती है तो उनका घर में भी सम्मान होता है। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने नारी शक्ति को सम्मान देते हुये पड़ाव रतनपुर निवासी 06 वर्ष की बच्ची इकरा से फीता कटवा कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। सूचना विभाग द्वारा एलईडी बैन के माध्यम से लखनऊ में आयोजित मा0 मुख्यमंत्री जी के कार्यक्रम का सजीव प्रसारण देख गया। इस अवसर पर जनपद में विभिन्न क्षेत्र में उत्कृट कार्य करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक अमीत कुमार ने महिलाओं को सम्बोधित करते हुये कहा कि महिला हेल्फ डेस्क की स्थापना से उन पीड़ित महिलाओं को अपनी बात कहने का अधिकार मिलेगा जो पुरूषों के सामने अपनी व्यथा को सही से नही रख पातह थीं। उन्होनें बताया कि महिला हेल्फ डेस्क में महिला कांस्टेबिल ही पीड़ित महिलाओं की समस्याओं को सुनकर उनका निराकरण कराएंगी।

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अजितेन्द्र नारायण, जिला प्रोबेशन अधिकारी इन्द्रावती यादव, जिला विद्यालय निरीक्षक, जिला पंचायत राज अधिकारी सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थें।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!