महिला को बराबरी का दर्जा मिलने से समाज में बनता है तरक्की का माहौल : डीएम

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । “अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस” का आयोजन कलेक्ट्रेट मीटिंग हाल मेंं आयोजन किया गया। इस मौके पर महिलाओं को मजबूत करने के लिए सरकार द्वारा उठाये गये कदम यानी सरकारी योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी। कार्यक्रम का शुभारंभ जिलाधिकारी अभिषेक सिंह, पुलिस अधीक्षक अमरेन्द्र प्रसाद सिंह व मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 अमित पाल शर्मा ने दीप प्रज्जवल करके और सरस्वती जी के चित्र पर माल्यार्पण करके किया। इस मौके पर नारी शक्ति के रूप में मौजूद स्कूली बच्चियों व महिलाओं ने सरस्वती वन्दना, नारी सशक्तिकरण, नारी जागरूकता पर विविध सांस्कृतिक कार्यक्रम बड़े ही मनोहारी व रोचक ढंग से प्रस्तुत किया।

प्रदेश स्तरीय मुख्यमंत्री का “अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस” कार्यक्रम का संजीव प्रसारण कलेक्ट्रेट मीटिंग हाल के साथ अपर मुख्य सचिव, सूचना डॉ0 नवनीत सहगल द्वारा भेजी गयी बड़ी एलईडी वैन द्वारा किया गया।

“अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस” के मौके पर जिला स्तरीय महिला सम्मान समारोह को जिलाधिकारी अभिषेक सिंह, पुलिस अधीक्षक अमरेन्द्र प्रसाद सिंह व मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 अमित पाल शर्मा, अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह ने विस्तार से सम्बोधित करते हुए कहा कि परिवार, समाज व देश के विकास के लिए महिला का सम्मान करना गौरव का विषय है। जिस समाज में महिला का सम्मान किया गया, वह समाज यकीनन तरक्की किया। उन्होंने कहा है कि एक महिला के जागरूक व शिक्षित होने से एक पूरा परिवार शिक्षित होता है। वह परिवार, समाज व देश को मूर्त रूप देता है, यानी जहां महिलाएं सम्मानित व शिक्षित होंगी, वहां समाज मेंं खुशहाली व तरक्की यकीनी है। उन्होंने कहा कि महिला जहां माँ, बेटी, बहू व पत्नी के रूप में समाज को बढ़ावा देती हैं, वहीं महिला को बराबरी का दर्जा मिलने से समाज में तरक्की का माहौल बनता है।

जिलाधिकारी अभिषेक सिंह, पुलिस अधीक्षक अमरेन्द्र प्रसाद सिंह व मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 अमित पाल शर्मा, अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह ने जिले के विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली महिलाएं जैसे समाज सेवा, विषम परिस्थितियों में परिवार को संभालना, बाल-विकास, महिला कल्याण, शिक्षा, उच्च शिक्षा, श्रम राजस्व, सहकारिता, युवा कल्याण/समाज सेवा आदि क्षेत्रों में बेहतर कार्य करने वाले महिलाओं, राजस्व विभाग के लेखपाल, महिला पुलिस कर्मियों यानी महिला सरकारी अधिकारी व कर्मचारियों को प्रशस्ति-पत्र देते हुए हौसला अफजाई की।

इस मौके पर श्रम विभाग में पंजीकृत मजदूरों की बच्चियों ने, जिन्होंने दर्जा-9, 10, 11 व 12 पास की हैं। उन बच्चियों के पढ़ाई के सुगमता के लिए साईकिल सहायता योजना के तहत 54 छात्राओं को साईकिल वितरित किया।

श्रम विभाग में पंजीकृत मजदूर जिनकी दुर्घटना में मौत हो गयी थी, उन 14 मृतक मजदूरों के वारिसों को दो-दो लाख यानी 28 लाख रूपये की आर्थिक मदद की गयी।

इस मौके पर जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना, 1090 वूमैन पावर लाईन, 1098 चाइल्ड हेल्फ लाईन, 181 पारिवारिक महिला हेल्फ लाईन, पावर रेंजर्स/शक्ति परियोजना, आशा ज्योति एवं रानी लक्ष्मी बाई, महिला शक्ति आदि योजनाओं की विस्तार पूर्वक जानकारी उपस्थित महिलाओं को दी गयी।

इस मौके पर जिलाधिकारी अभिषेक सिंह, पुलिस अधीक्षक अमरेन्द्र प्रसाद सिंह व मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 अमित पाल शर्मा, अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह, अपर श्रमायुक्त सरजू राम, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 बी0के0 अग्रवाल, बीएसए डॉ0 गोरखनाथ, जिला विद्यालय निरीक्षक, भूमि संरक्षण अधिकारी अपर्णा सिंह, बविता बरनवाल, मंजू गिरि, नीतू यति सिंह, सीमा द्विवेदी, साधना मिश्रा सहित अन्य भारी संख्या में बेहतर काम करने वाली शक्तिस्वरूपा महिलाएं मौजूद रही।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!