तृणमूल कांग्रेस द्वारा उठाए गए सवाल पर केंद्रीय चुनाव आयोग का दो टूक जबाब- आयोग को अपने अधिकारियों पर पूरा भरोसा है

तृणमूल कांग्रेस द्वारा चुनाव आयोग के उप चुनाव आयुक्त सुदीप जैन पर सवाल उठाने वाले चिट्ठी का जवाब देते हुए केंद्रीय चुनाव आयोग ने साफ कहा है कि चुनाव आयोग को अपने अधिकारियों पर पूरा भरोसा है । चुनाव आयोग के जारी किए गए बयान में साफ तौर पर कहा गया है कि सुदीप जैन के खिलाफ लगाए गए सभी आरोप पूरी तरह बेबुनियाद है।

सुदीप जैन के उपर लगाए गए आरोपों पर बयान जारी करते हुए केंद्र चुनाव आयोग ने कहा कि, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन कोई पहली बार नहीं है जब चुनाव अधिकारियों के खिलाफ इस तरीके के आरोप लगाए गए हो। खास तौर पर चुनावों से ठीक पहले या चुनावों के दौरान ।”

केंद्रीय चुनाव आयोग के बयान में कहा गया है कि, तृणमूल कांग्रेस द्वारा दी गई शिकायत में 2019 चुनावों के दौरान दिए गए आदेशों का जिक्र करते हुए सुदीप जैन को पर सवाल उठाए गए हैं ।लिहाज़ा केंद्रीय चुनाव आयोग यह साफ कर देता है की उस दौरान जो भी फैसले लिए गए थे वह चुनाव को शांतिपूर्ण और निष्पक्ष तरीके से करवाने के लिए गए थे ।

तृणमूल कांग्रेस की तरफ से चुनाव आयोग को भेजी गई चिट्ठी में कहा गया था कि, साल 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी सुदीप जैन ने पक्षपातपूर्ण कार्रवाई की थी । इतना ही नहीं 8 चरणों में पश्चिम बंगाल में चुनाव कर वाने के चुनाव आयोग के फैसले पर भी सवाल उठाते हुए कहा गया है की आयोग का ये फैसला पश्चिम बंगाल की जनता को तकलीफ देने के लिए ही लिया गया है ।

साथ ही यह फैसला डिप्टी इलेक्शन कमिश्नर सुदीप जैन की रिपोर्ट के आधार पर लिया गया है। जबकि उन्होंने पश्चिम बंगाल को लेकर भी चुनाव आयोग के पास गलत तथ्य और रिपोर्ट सौंपी थी । तृणमूल कांग्रेस की तरफ से ये भी आरोप लगाया कि लोकसभा चुनाव के दौरान जब कोलकाता में ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को तोड़ा गया था उस वक्त भी सुदीप जैन ने गलत रिपोर्ट दी थी । उनकी रिपोर्ट के आधार पर तृणमूल कांग्रेस को दो दिन तक प्रचार करने से रोका गया था जबकि र्ति तोड़ने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई थी ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!