जिला स्वास्थ्य समिति की समीक्षा बैठक में डीएम ने सीएमओ सहित अधिकारियों के कसें पेंच

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

जिलाधिकारी ने जिला लेखा प्रबंधक व ब्लाक लेखा प्रबन्धकों का वेतन रोकने का दिया निर्देश

एनआरसी की ट्रेनिंग न लेने पर व ड्यूटी से इन्कार करने पर जिलाधिकारी ने सीएचसी प्रभारी डॉ0 गिरधारी लाल व डॉ0 संजीव कुमार को किया तलब

एक सप्ताह के अन्दर हर हाल में लम्बित देनदारियों का किया जाय शत-प्रतिशत भुगतान

अब निःशुल्क बनाया जाएगा आयुष्मान गोल्डन कार्ड

जिले में 10 मार्च से 24 मार्च तक चलेगा आयुष्मान पखवाड़ा

सोनभद्र । आज कलेक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी अभिषेक कुमार सिंह की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक सम्पन्न हुई। इस दौरान जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के पेंच कसे।

इस दौरान जिलाधिकारी अभिषेक कुमार सिंह कहा कि “स्वास्थ्य विभाग जन स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर तरीके से आम नागरिकों को मुहैया कराने के साथ ही 102 व 108 एम्बुलेंस सेवा आदि को सक्रिय रखा जाय। मरीजों को हर संभव दवाएं मुहैया कराये जायी और बाहर से दवाएं न लिखी जाय। जननी सुरक्षा योजना व आशाओं के लम्बित भुगतान के देरी के लिए सम्बन्धित प्रभारी चिकित्साधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाय। कोविड-19 से बचाव सम्बन्धी वैक्सीनेशन की गाईड लाइन के अनुरूप व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। लम्बित भुगतान में दिलचस्पी न लेने वाले जिला लेखा प्रबन्धक व सम्बन्धित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तरों के ब्लाक लेखा प्रबन्धकों का वेतन रोका जाय। जब लम्बित भुगतान किया जायेगा तभी इनका वेतन आहरित होगा।”

जिलाधिकारी ने मौके पर मौजूद मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 नेम सिंह के साथ ही सभी सी0एच0सी0, पी0एच0सी0 के प्रभारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि लापरवाहों के खिलाफ कार्यवाही की जाय और अच्छे काम करने वाले को प्रोत्साहित किया जाय। उन्होंने समीक्षा के दौरान पाया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र दुद्धी में तैनात डॉ0 संजीव कुमार को एनआरसी सम्बन्धी ट्रेनिंग न लेने व ड्यूटी से इन्कार किया, जिस पर जिलाधिकारी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र दुद्धी के प्रभारी व लापरवाह डॉ0 संजीव कुमार को तलब किया। उन्होंने कहा कि आयुष्मान पखवाड़ा जो 10 से 24 मार्च 2021 तक जिले में चलेगा, उसकी बेहतर कार्य योजना तैयार कर ली जाय और शासन की मंशा के अनुरूप 5 लाख रूपये के बीमारी का इलाज के लिए गोल्डेन कार्ड के 30 रूपये फीस के बजाय बिल्कुल निःशुल्क गोल्डेन कार्ड पात्रों का बनाया जाय। उन्होंने कहा कि जिन-जिन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों की पैसा होने के बावजूद देनदारियाँ लम्बित हैं, उनके निस्तारण के लिए मुख्य चिकित्साधिकारी प्रशासनिक अधिकारी के रूप में तत्काल कड़ें कदम उठायें। उन्होंने कहा कि एक ही डॉक्टर को कई सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र/प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों का प्रभार न दिया जाय। कोशिश किया जाय कि जो डॉक्टर मौजूद हैं, उन्हें स्थानीय स्तर पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों का प्रभार दिया जाय। उन्होंने कहा कि लम्बे समय से सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर तैनात लापरवाह कार्मिकों का स्थानान्तरण जरूरत के मुताबिक मुख्य चिकित्साधिकारी करें, जो काम अच्छे से कर रहे हैं, उन कार्मिकों का स्थानान्तरण न किया जाय।

जिलाधिकारी ने संचारी रोग नियंत्रण अभियान को सफल बनाने के लिए सभी सम्बन्धितों को दायित्वबोध कराते हुए टीम भावना के साथ संचारी रोग नियंत्रण अभियान को सफल बनाने की ताकीद की।

बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 नेम सिंह ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलायी जा रही योजनाओं के बारे में जानकारी दी और लापरवाह चिकित्साधिकारियों का दायित्वबोध कराते हुए तत्काल सुधरने की नसीहत दी। उन्होंने कहा कि परिवार नियोजन पर विशेष ध्यान दिया जाय। जिलाधिकारी ने जननी सुरक्षा योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि एक सप्ताह के अन्दर हर हाल में लम्बित देनदारियों का शत-प्रतिशत भुगतान किया जाय। उन्होंने जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य पर बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के निर्देश दिये। उन्होंने बिन्दुवार समीक्षा करते हुए स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर तरीके से नागरिकों/पात्रों को मुहैया कराने की ताकीद करते हुए कहा कि प्राप्त धन का समय से सदुपयोग किया जाय तथा धन प्राप्त होने के बावजूद समय से खर्च न करने की भी जिम्मेदारी तय की जायेगी। उन्होंने नियमित टीकाकरण, कोविड वैक्सीनेशन, कुष्ठ नियंत्रण कार्यक्रम, अंधता कार्यक्रम नियंत्रण कार्यक्रम, क्षय रोग नियंत्रण कार्यक्रम, परिवार नियोजन, कोविड-19 के संक्रमण से बचाव सम्बन्धी जन जागरूकता के साथ ही संभावित संचारी रोगों के निमित्त समयबद्ध तरीके से स्वास्थ्य सेवाएं क्रियाशील रखने की हिदायत दी।

बैठक में जिलाधिकारी अभिषेक सिंह के अलावा मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 अमित पाल शर्मा, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 नेम सिंह, मुख्य चिकित्साधीक्षक डॉ0 के0 कुमार, अपर मुख्य चिकित्साधिकारीगण, उप मुख्य चिकित्साधिकारीगण, प्रभारी चिकित्साधिकारीगण सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण मौजूद रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!