स्वदेशी कोरोना वैक्सीन का पहला डोज लगाकर पीएम मोदी ने दिया संदेश, कहा- लगा भी दी, पता भी नहीं चला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुब-सुबह कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लेकर देश को खुशखबरी दी । खुशखबरी इस मायने में कि जिस स्वदेशी कोरोना वैक्सीन को लेकर विवाद खड़ा किय़ा जा रहा था, विपक्ष इसकी क्षमता पर सवाल उठा रहा था, पीएम ने भारत बायोटेक कंपनी की वही कोवैक्सीन अपने लिए चुनी और दिल्ली के एम्स में आज वैक्सीन का पहला डोज लिया ।

पीएम नरेंद्र मोदी के कोरोना वैक्सीन लेने की इन तस्वीरों ने देशवासियों के बीच बहुत बड़ा भरोसा जगाया है और वैक्सीन पर छिड़ी तमाम सियासत को एक झटके में खत्म कर दिया है। संदेश बिल्कुल सीधा और साफ है कि देश में इस्तेमाल की जा रही कोरोना वैक्सीन सौ फीसदी सुरक्षित और असरदार है ।

पीएम नरेंद्र मोदी को टीका लगाने वाली दिल्ली एम्स में कार्यरत सिस्टर पी निवेदा ने कहा, ‘सर (पीएम मोदी) को भारत बायोटेक की कोवैक्सीन की पहली खुराक दी गई है, दूसरी खुराक 28 दिनों में दी जाएगी, टीका लगने के बाद उन्होंने हमसे पूछा कि आप लोग कहां से हैं और उन्होंने (पीएम मोदी) कहा- लगा भी दी, पता भी नहीं चला ।’

पुडुचेरी की रहने वाली नर्स पी निवेदा ने पीएम नरेंद्र मोदी को वैक्सीन की पहली डोज दी । उनके साथ केरल की रहने वाली नर्स रोस्समा अनिल भी साथ थीं ।एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया भी उनके साथ मौजूद थे। वैक्सीन लेते वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुस्कुरा रहे थे । वैक्सीन के बाद पीएम ने प्रोटोकॉल का पालन किया और आधे घंटे का इंतजार किया ।

इस दौरान एम्स के डॉक्टर रणदीप गुलेरिया उन्हें पोस्ट वैक्सीन के बारे में बताते रहे। प्रधानमंत्री को वैक्सीन की अगली डोज 28 दिन बाद लगेगी । आम जनता की कैटेगरी में सबसे पहले वैक्सीन लेकर प्रधानमंत्री ने ना सिर्फ लोगों का हौसला बढ़ाया बल्कि लोगों को प्रेरित भी किया कि वो बिना किसी डर के सामने आएं, कोरोना की वैक्सीन लगवाए और देश को कोरोना मुक्त करें ।

कोरोना महामारी के खिलाफ भारत ने डटकर मुकाबला किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद इस जंग की अगुवाई की । पीएम शुरू से वैक्सीन को लेकर वैज्ञानिकों और डॉक्टरों का हौसला बढ़ाते रह । जैसे ही वैक्सीन की ट्रायल की बारी आई, प्रधानमंत्री ने खुद पुणे के सीरम इंस्टिट्यूट और हैदराबाद की भारत बायोटेक कंपनी का दौरा किया था । और आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद देसी वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ लगवाकर बता दिया कि ये विश्वास की वैक्सीन है, लोगों की आस की वैक्सीन है । बस आप भी आगे आइए, बिना किसी झिझक, डर वैक्सीन लगवाए. आपकी ये पहल देश को कोरोना से मुक्त करेगा ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!