प्रधानमंत्री आवास का पैसा दूसरे के खाते में, लाभार्थी लगा रहा चक्कर —

रमेश यादव ( संवाददाता )

◆ प्रधानमंत्री आवास में लापरवाही -सूची में नाम किसी का और पैसा किसी और के खाते में —-

◆ जब पैसा ही नही तो आखिर लाभार्थी कैसे बनवाएगा प्रधानमंत्री आवास

◆ दुद्धी ब्लॉक क्षेत्र के टेढ़ा ग्राम पंचायत का मामला

◆ प्रथम क़िस्त में ही हो गई थी दूसरे के खाते में पैसे जाने की जानकारी,फिर भी अधिकारियों ने नही ली सबक और दूसरी क़िस्त भी दूसरे खाते में हुआ स्थानन्तरित

◆ पैसा वापस कराने में गुजर गए दो साल से अधिक का समय, प्रधानमंत्री आवास सूची में नाम के बावजूद खाते में पैसा नहीं मिलने से पीड़ित परिवार परेशान

दुद्धी। प्रधानमंत्री आवास सहित सरकारी योजनाओं में ग्राम प्रधान एवं अधिकारियों की मिलीभगत से अपात्रों को लाभ दिलाए जाने खेल कोई नया नहीं है।यह शिकायतें आती रहती हैं कि बीपीएल सूची में हेराफेरी करके गांव के जन प्रतिनिधि अपने चहेतों को लाभ दिलाने में पीछे नहीं रहते हैं।उसी तरह का एक खेल दुद्धी ब्लॉक के टेढ़ा ग्राम पंचायत में भी हुआ है।जहां प्रधानमंत्री आवास की सूची में जिस लाभार्थी का नाम है उसके खाते में आज तक पैसा ही नही गया और सम्बंधित अधिकारी प्रधानमंत्री आवास बनाने का दबाव बनाने लगे।तब लाभार्थी ने अपनी पासबुक सहित अन्य दस्तावेज लेकर अधिकारियों से गुहार लगाई तब पता चला कि जिसके नाम आवास आबंटित है उसका पैसा किसी दूसरे के खाते में भेज दिया गया और वह पैसा निकाल भी लिया ।ग्राम प्रधान सहित अन्य अधिकारियों ने मामले को शांत कराते हुए उक्त लाभार्थी को आवास का मैटीरियल देकर शांत करा दिया गया कि अगली क़िस्त तुम्हारे खाते में आएगी लेकिन सम्बंधित अधिकारियों ने खाता सुधार नहीं करवाया जिससे पुनः दूसरी क़िस्त दूसरे के खाते में चला गया। तब आज तक वह लाभार्थी आवास के लिए चक्कर लगा रहा लेकिन आवास आबंटन सूची में नाम होने के बावजूद आज तक उसके खाते में न तो पैसा भेजेगी और न ही उसका प्रधानमंत्री आवास बनवाया गया जिससे वह काफी परेशान हैं।पीड़ित लाभार्थी का कहना है कि खाते में पैसा नही आने की सम्बंधित अधिकारियों तथा ग्राम प्रधान से कई बार गुहार लगाई लेकिन आज तक आश्वासन ही मिलता रहा है और अब उसे डर इस बात की भी सताने लगी कि सूची में नाम आने के बाद हमे दुबारा अब न तो आवास मिल पाएगी और न पैसा।लोग यह कहते फिर रहे हैं कि पीड़ित आवास लाभार्थी के साथ वही कहावत हो गई कि” करे कोई और भरे कोई “।
इस सम्बंध खण्ड विकास अधिकारी अनिल कुमार वर्मा ने कहा कि मामला संज्ञान में आया है जल्द ही जांच कर उचित कार्यवाही की जाएगी और लापरवाही साबित होने पर सम्बंधित ग्राम प्रधान और ग्राम विकास अधिकारी के विरुद्ध भी कार्यवाई की जाएगी।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!