जंगली जानवर ने कई बकरियों को बनाया अपना निवाला, पशुपालक परेशान

संजय केसरी (संवाददाता)

डाला। विकास खण्ड चोपन क्षेत्र के ग्राम पंचायत कोटा क्षेत्र में जंगली जानवर द्वारा बकरियो के मारे जाने से उसके पालक परेशान व चिंतित नजर आ रहे हैं। जिन्होेंने प्रशासन से जानवर को पकड़ने की गुहार लगाया है।
क्षेत्र की जंगलो में घात लगाए बैठे जंगली जानवर के हमलो से आदिवासी ग्रामीण दहशत में हैं। अबतक ये जानवर बिते चार दिनो में छह बकरियो को मार गिराया है। जिसमें एक बकरी के बच्चे को टांगकर ले भागा है। जानवर द्वारा बकरियो के मारे जाने की घटना लोगो में चर्चा का विषय बना हुआ है। डाला चढाई निवासी बकरी पालक विजेन्द्र यादव पुत्र स्व.भृगुनाथ ने बताया कि उनके पास 13 बकरिया थी। जिनमें तीन बकरियो को चार दिन के अन्दर जंगली जानवर ने मार दिया है। तीनो में से एक बकरी का तीन माह का बच्चा था जिसे जानवर टांग कर ले भागा। बकरी पालक बाबू लाल पाल पुत्र जुराखन पाल ने बताया कि उसके पास भी 13 बकरियां थी जिसमें तीन दिन के अन्दर एक बकरी को जानवर ने मार दिया है।बकरी पालक विजय साहनी उर्फ लल्लू पुत्र स्व.रामबली ने बताया कि उसके पास 20 बकरी थी जिसमें दो बकरियो को जानवर ने मार दिया है।जानवर के हमले से बकरी पालक दहशत में हैं। तीनो पशुपालको ने हमलावर जानवर के बारे में बताया की बकरियो की हाईट से थोड़ा उच्चां है और लंबाई में लगभग चार फीट का है।जो लंबी छलांग लगाकर एकाएक पंजो से बकरियो पर हमला कर देता है।पशुपालको की निगरानी बकरियो पर रहता है जो तुरंत जानवर को हमला करते देख चिल्लाने लगते है।जिससे एक बकरी को ही घायल कर भाग गया।पशुपालको ने बताया कि देखने में जानवर की शक्ल तेन्दुआ व लकड़बग्घा की तरह है।पशुपालको ने बताया कि हमलावर जानवर को नहीं पकड़ा गया तो उन्हें बकरी पालन व्यवसाय को बंद करना पड़ेगा।जिला प्रशासन से हमलावर जानवर को पकड़ने की गुहार लगाया है।
इस सन्दर्भ में प्रभागीय वनाधिकारी ओबरा प्रखर मिश्रा ने बताया कि तेन्दुआ या ऐसे खतरनाक जानवर इस क्षेत्र में अभी तक तो नहीं है।फिर भी वन विभाग की टीम को भेजकर देखवाया जाएगा।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!