प्रशासन की अनोखी पहल : समूह की महिलाएँ अब गृहस्थी के साथ संभालेंगी सामुदायिक शौचालय की जिम्मेदारी

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

● 118 सामुदायिक शौचालयों का संचालन करेंगी समूह की महिलाएं

सोनभद्र । अमूमन घर की जिम्मेदारी महिलाओं के हाथों में होती है। घर की गृहस्थी में निपुण ऐसी ही महिलाओं को अब सोनभद्र प्रशासन एक नई जिम्मेदारी देने जा रहा है। ग्राम पंचायतों में बनाए गए सामुदायिक शौचालयों के संचालन का जिम्मा विधवा व उम्रदराज महिलाओं के हाथों में दिया जाएगा। इन महिलाओं का चयन गांवों में बने स्वयं सहायता समूह के सदस्यों में से किया गया है। इस कार्य के बदले ग्राम पंचायत प्रतिमाह चयनित महिलाओं को छह हजार रुपये मानदेय भी देगा और शौचालयों के रखरखाव के लिए 3,000 रुपए अलग से दिए जाएंगे। पहले चरण में 118 ग्राम पंचायतों में पूर्ण हो चुके शौचालय की बागडोर स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को सौंपी जा रही है।

उपायुक्त स्वतः रोजगार अरुण कुमार जौहरी ने बताया कि “जिले में 346 सामुदायिक शौचालयों के सापेक्ष 125 सामुदायिक शौचालय पूर्ण हो चुके हैं जबकि शेष निर्माणाधीन हैं। पूर्ण हो चुके 125 सामुदायिक शौचालयों में से 118 शौचालयों के देख-रेख के लिए स्वयं सहायता समूह की एक महिला को चुना गया है, जिसे हर महीने 6,000 रुपए का मानदेय दिया जाएगा और शौचालयों के रखरखाव के लिए 3000 रुपये अलग से दिए जाएंगे। जिससे वो आर्थिक रूप से और मजबूत हो सके।”

प्रशासन की इस अनोखी पहल के बाद अब महिलाएं गृहस्थी की चाभी के साथ सामुदायिक शौचालय की चाभी भी संभालेंगी। जिस तरह से सोनभद्र प्रशासन समूह की महिलाओं को बढ़ाने के लिए लगातार नए-नए प्रयोग कर रहा है वह काफी सराहनीय है। इससे न सिर्फ महिलाएं रोजगार से जुड़ेंगी बल्कि स्वावलंबी भी बनेंगी।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!