किराया वृद्धि वापस लेने की माँग को लेकर अपर मुख्य अधिकारी से मिला दुकानदारों का प्रतिनिधि मंडल

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जिला पंचायत द्वारा दुकानों की किराये की बढ़ोत्तरी और दस वर्षों के नए किराएदारी अनुबन्ध पर दुकानदारों में काफी रोष व्याप्त है। इस बढ़े किराये और दस वर्षीय अनुबन्ध को लेकर दुकानदारों का एक प्रतिनिधि मण्डल ने अपर मुख्य अधिकारी से मुलाकात की। इस दौरान दुकानदारों ने अपनी समस्याओं से अपर मुख्य अधिकारी को अवगत कराया, लेकिन पूरे मामले पर प्रतिनिधि मंडल को निराशा ही हाँथ लगी। अपर मुख्य अधिकारी ने बताया कि यह प्रस्ताव बोर्ड की बैठक में पास हुआ हैं, वह अब निरस्त या बदला नहीं जा सकता। यह उनके अधिकार क्षेत्र से बाहर का मामला है।

वहीं प्रतिनिधि मंडल ने कहा कि “जिला पंचायत सदस्यों और अध्यक्ष का कार्यकाल 13 जनवरी को समाप्त हो जाएगा, जिसके बाद बोर्ड भंग हो जाएगा तत्पश्चात जिलाधिकारी प्रशासक हो जाएंगे। ऐसे में सारे राजस्व संशोधन के अधिकार जिलाधिकारी के पास सुरक्षित हो जाते है। तब जिलाधिकारी से मुलाकात कर अपनी बात रखी जायेगी।”

अपर मुख्य अधिकारी संतोष कुमार तिवारी ने बताया कि “जिला पंचायत द्वारा बनाये गए दुकानों को राजस्व के बढ़ोत्तरी के लिए किराए हर तीन वर्ष में 25% बढ़ाने का नियम है। इसी क्रम में ये फैसला लिया गया है। यह प्रस्ताव बोर्ड की बैठक में पास होता है। अब इसमें संशोधन या समाप्त करने का अधिकार हमें नहीं है।”

इस दौरान पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष कृष्ण मुरारी गुप्ता, संजीव देव पाण्डेय, संगम गुप्ता, राम लाल केशरी और श्याम लाल समेत अन्य दुकानदार उपस्थित रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!