राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस, घर से सीखें ऊर्जा संरक्षण

ईशान अवस्थी/सुशील कश्यप (संवाददाता)

पीलीभीत । समाधान विकास समिति विपनेट क्लब के तत्वाधान में राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस के अवसर पर वीरांगना अवंती बाई जिला पंचायत बालिका इंटर कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में किशोर पीढ़ी को ऊर्जा संरक्षण का महत्व बताते हुए कहा कि ऊर्जा के सीमित स्त्रोत हैं मांग अधिक है अतः ऊर्जा बचाना जरूरी है। ऊर्जा के उपयोग में कटौती व सावधानी पूर्वक ऊर्जा का उपयोग ही ऊर्जा संरक्षण है। अपनी बात जारी रखते हुए रिसोर्स पर्सन व समन्वयक लक्ष्मीकांत शर्मा ने कहा कि ऊर्जा हितैषी घर से आरम्भ कर ऊर्जा हितैषी समाज का निर्माण आज की महती आवश्यकता है। ऊर्जा ने सुबह उठने से रात सोने तक पुनः सुबह उठने तक मानव जीवन को प्रभावित किया है। कूलर, पंखा, वाशिंग, मशीन, फ्रिज, एयर कंडीशनर, इलेक्ट्रिक प्रेस आदि के प्रयोग में सावधानियों की टिप्स देते हुए बताया कि किस प्रकार ऊर्जा की बचत कर सकते हैं। चार्जर को प्लग में लगा नहीं छोड़ना चाहिए। एलईडी का अधिक से अधिक प्रयोग करें। गंदे बल्ब और ट्यूब लाइटों की सफाई करते रहें। बल्ब को ऐसी जगह लगाएं कि सभी जगह रोशनी हो। आवश्यकता वाली जगह पर टास्क लाइट का प्रयोग करें। इलेक्ट्रॉनिक रेगुलेटर, डिनर, टाइमर के प्रयोग को वरीयता दें। स्टार रेटेड उपकरणों का प्रयोग करें, क्योंकि यह ऊर्जा खपत कम करने के साथ-साथ कार्बन एमिशन मी कम करते हैं। दिन में सौर ऊर्जा से प्रकाश करें। इस अवसर पर प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया गया जिसमें शिवानी मौर्य, सृष्टि मौर्य, अंजलि चौहान व हिना अंसारी ने श्रेष्ठता दिखाई। इन्हें प्रशस्ति पत्र और पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की संयोजिका शालिनी श्रीवास्तव में प्रतिभागियों का आवाहन किया कि वे अपने घर को ऊर्जा दक्ष बनाएं। प्रधानाचार्य अजय चौहान ने कहां की ऊर्जा की कम उपलब्धता वह अधिक मांग को ऊर्जा बचत के ही पूरा किया जा सकता है कार्यक्रम से ऊर्जा बचत के प्रयासों को गति मिली।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!