69 हज़ार शिक्षक भर्ती की काउंसलिंग के दौरान पकड़े गए पाँच संदिग्ध शिक्षक

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही(ब्यूरो)

ग़ाज़ीपुर। बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जी शैक्षिक प्रमाण पत्रों पर नौकरी हथियाने का क्रम टूट नहीं रहा है। अब वर्तमान में चल रही 69 हजार शिक्षक भर्ती की काउंसिलिंग के दौरान भी पांच और संदिग्ध शिक्षक पकड़े गए हैं। उन्होंने सीटेट व बीटीसी उत्तीर्ण करने से पहले ही तथ्यों को छिपाकर आवेदन कर दिया। अब काउंसिलिंग के दौरान पकड़े जाने पर जांच-पड़ताल के बाद विभाग ने उनका चयन निरस्त कर दिया है।बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा निकाली गई 69 हजार शिक्षक भर्ती के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 22 दिसंबर 2018 थी। इससे पहले बीटीसी व टेट पास करने वाले अभ्यर्थियों को ही आवेदन करना था, लेकिन कई ऐसे अभ्यर्थियों ने भी कूट रचित दस्तावेजों के सहारे आवेदन किया था। उनका चयन भी हो गया लेकिन डर के मारे पहली बार काउंसिलिंग नहीं कराई। जब सरकार ने छूटे हुए नव नियुक्त शिक्षकों को काउंसलिंग कराने का एक और मौका दिया तो इस बार इन्होंने नौकरी हथियाने की कोशिश की। 10 व 11 दिसंबर को हुई काउंसिलिंग के दौरान जब उन्होंने अपना दस्तावेज प्रस्तुत किया तो जांच-पड़ताल के बाद पकड़ लिए गए। दो ऐसे नव नियुक्त शिक्षक मिले, जिन्होंने सीटेट 2019 में किया था। इसके अलावा तीन ऐसे नव नियुक्त शिक्षक मिले जो बीटीसी में फेल हो गए थे लेकिन उन्होंने आवेदन कर दिया। फिर बैक पेपर देकर 2019 में बीटीसी पास किया। पकड़े जाने के बाद इन पांचों ने अपनी गलती स्वीकार कर ली।
बोले अधिकारी :छूटे हुए नव नियुक्त शिक्षकों को काउंसिलिंग का एक और मौका दिया गया था। इसमें पांच ऐसे मिले जिन्होंने आवेदन करने के बाद सीटेट व बीटीसी पास किया था। जांच के बाद पकड़े जाने पर उनका चयन निरस्त कर दिया गया है।”

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!