निर्विवाद उत्तराधिकार को खतौनियों में दर्ज करने का सुनहरा मौका

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही(ब्यूरो)

ग़ाज़ीपुर। जनपद के समस्त ग्रामों में निर्विवाद उत्तराधिकार को खतौनियों में दर्ज करने हेतु दिनाक 15 दिसम्बर , 2020 से 15 फरवरी 2021 तक दो माह का विशेष अभियान प्रारम्भ किया जा रहा है । जिलाधिकारी एम पी सिंह ने सभी जनपदवासियों को सूचित किया है कि यदि उनके घर में किसी उत्तराधिकार की मृत्यु हो गयी हो अथवा किसी अन्य कारणों से अभी तक नामान्तरण नहीं हो पाया हो तो वे ऑनलाईन अथवा जनसेवा केन्द्र पर प्रार्थना पत्र भरने के लिए राजस्व परिषद की वेबसाइट के मुखपृष्ठ पर दिये गये राजस्व न्यायालय कम्प्यूटरीकृत प्रबन्धन प्रणाली लिंक पर उपलब्ध उत्तराधिकार/वरासत हेतु आवेदन लिंक पर जाकर अपना मोबाईल नं 0 अंकित करेगा , तत्पश्चात मोबाईल पर प्राप्त ओ0 टी0 पी 0 को भरकर वांछित सूचनाएं पोर्टल पर भर दें । यदि कोई आवेदक ऐसा नहीं कर पा रहा है तो क्षेत्रीय लेखपाल को सूचित भी कर सकता है। लेखपाल द्वारा अपनी लॉगिन आई 0 डी 0 से उत्तराधिकार/वरासत सम्बन्धी विवरण भरा जायेगा । आवेदन अथवा लेखपाल द्वारा प्रार्थना पत्र भरे जाने के पश्चात सबमिट करते ही आवेदन क्रमाक स्वतः जनरेट हो जायेगा और लेखपाल और कानूनगो के लॉगिन आई 0 डी 0 पर स्वतः प्रेषित हो जायेगा। निर्विवाद उत्तराधिकार के लिए दिनांक 15.12.2020 से 30.12.2020 तक राजस्व / तहसील कर्मचारियों एवं अधिकारियों द्वारा भ्रमण कर राजस्व ग्रामों में प्रचार-प्रसार किया जायेगा । खतौनियों को पढ़ा जायेगा तथा लेखपाल द्वारा वरासत के लिए प्रार्थना पत्र प्राप्त कर उन्हें ऑनलाईन भरा जायेगा। दिनांक 31.12.2020 से 15.01.2021 तक लेखपाल द्वारा ऑनलाईन जांच की प्रकिया की जायेगी। दिनांक 16.01.2021 से 31.01.2021 तक राजस्व निरीक्षक द्वारा नामान्तरण आदेश को सम्बन्धित रजिस्टर (आर-6 ) में दर्ज करके खतौनी की प्रविष्टियों को भूलेख साफ्टवेयर में अपडेट किया जायेगा। जिलाधिकारी ने समस्त जनपदवासियों से अपील है कि वे अविवादित उत्तराधिकार के सम्बन्ध में अपने-अपने तहसील के उपजिलाधिकारी , तहसीलदार , नायब तहसीलदार राजस्व निरीक्षक, लेखपाल को सूचित करें, तदनुसार तहसील के सम्बन्धित अधिकारीगण नामान्तरण की कार्यवाही सुनिश्चित करेंगे ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!