सीएमओ का चौंकाने वाला खुलासा, निर्मम तरीके से की गई थी तीनों बच्चों की हत्या, एडीजी ने SIT का किया गठन

जनपद न्यूज़ ब्यूरो

मिर्जापुर । गुमशुदा तीन बच्चों के शव मिलने के मामले में पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट का खुलासा करते हुए सीएमओ ने बताया कि निर्मम तरीके से तीन बच्चों की हत्या की गई थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में एक बच्चे के सीने की हड्डी टूटी मिली।दो डॉक्टरों की टीम ने पोस्टमार्टम किया था। हालांकि आँख निकालने के घटना को सीएमओ ने इनकार कर दिया लेकिन तीनों बच्चो के आँख के आस-पास नुकीले हथियार से प्रहार किया गया था जिससे खून निकल रहे थे। सीएमओ ने यह भी खुलासा किया कि पानी में डूबने से पहले की मौत हो चुकी थी।

वहीं इस मामले में आज घटना स्थल पर एडीजी जोन वाराणसी ब्रजभूषण पहुँचे। उन्होंने जिस बंधे में बच्चों का शव मिला था, वहां का निरीक्षण किया तथा परिजनों और स्थानीय लोगों से पूछताछ किया वहीं एडीजी जोन ने घटना के खुलासे के लिए SIT टीम का गठन किया है।

एडीजी जोन ने इन दौरान मीडिया से वार्ता करते हुए कहा कि इस मामले में हत्या का मुकदमा दर्ज कर एक STI की टीम अपर पुलिस अधीक्षक नक्सल अजय सिंह विष्ट के नेतृत्व में बनाई जा रही जो घटना का खुलासा जल्द ही करेगी। वहीं बच्चों की हत्या कर आँख निकाले जाने के परिजनों के आरोप पर एडीजी ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आँख के पास चोट है।

वहीं परिजनों का कहना है कि घर पर आयी बारात के बाद बच्चे 1 दिसंबर को घर से निकले दूसरे दिन उनका शव मिला है। शव को देख कर लग रहा था कि आँख निकाला गया है।

बता दें की वामी ग़ांव के रहने वाले एक ही परिवार के 14 वर्षीय हरिओम, सुधांशु और शिवम तीनों बच्चे 1 दिसंबर को घर पर आयी बारात विदा होने के बाद पास के ही कुशियरा जंगल मे बेर खाने के लिए दोपहर में निकले थे। घर वापस नहीं लौटने पर परिजनों ने 2 दिसंबर को दोपहर में लालगंज थाने में गुमसुदगी का मुकदमा दर्ज करवाया था। इसी दिन शाम को ग्राम कामापुर लोहरिया बंधा से तीनों का शव मिला था।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!