यातायात माह के कार्यक्रम का हुआ समापन

कृपाशंकर पांडे (संवाददाता)

-यातायात नियमो को बताकर छात्र-छात्राओं को किया जागरूक

ओबरा। उत्तर प्रदेश शासन की मंशा के अनुसार मनाए जा रहे नवम्बर यातायात माह 2020 का समापन नगर स्थित राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय ओबरा में किया गया।कार्यक्रम का शुभारंभ आगन्तुक अथितियों द्वारा संयुक्त रुप से दीप प्रज्वलन कर एवं महाविद्यालयीय छात्राओं द्वारा सरस्वती वंदना से किया गया।ततपश्चात अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ देकर स्वागत गीत के साथ किया गया।कार्यक्रम की आख्या प्रस्तुत करते प्रभारी थाना ओबरा शैलेश कुमार राय ने सभी का अभिनंदन करते हुए बताया कि यह यातायात माह व्यक्ति को जागरुक करने के लिए 1 नवम्बर से 30 नवम्बर यातयात माह के रुप मे चलाया जाता हैं।वही प्रभारी यातायात सोनभद्र वागीश विक्रम सिंह ने कहा कि हमे यातायात मनाने की आवश्यकता इसलिए पड़ी क्योंकि हम अपनी सुरक्षा के लिए खुद जिम्मेदार नही हो रहे है।जब भी हम रोड पर निकले तो चार पहिया वाहन सीटबेल्ट व दो पहिया वाहन हेलमेट का उपयोग अवश्य करें।साथ ही वाहन चलाने से पूर्व क्या करने चाहिए सभी नियमो को बताता और कहा कि हम सभी यातायात के नियमो का पूरी तरह पालन करें तो इस माह को मनाने की आवश्यकता नही होगी।

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रुप में उपस्थित अपर पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश सिंह ने सम्बोधित करते हुए कहा कि आज पूरे प्रदेश में यातायात माह समापन इसलिए मनाया जा रहा है कि हम सभी जागरुक हो।कई बार ऐसा होता है कि दुर्घटना जब घटित होती है तब व्यक्ति को आजीवन सिख मिलती हैं,लेकिन यातायात माह का तात्पर्य है यही है कि दुर्घटना का दुष्परिणाम भुगतने के पहले ही हम यातायात के नियमों को सिख ले और इन नियमों से सभी को जागरुक करें और सभी को इसका अनुपालन कराए।साथ ही बताया कि वाहन चेकिंग के दौरान हमारे यातायात पुलिस के लोग सांकेतिक रुप से जो भी जुर्माना वसूलते है जिसका सिर्फ एक उद्देश्य होता है कि हमारे देश के युवा पीढ़ी जो हमारे देश के भविष्य है उनका कोई शारीरिक क्षति ना हो एवं वे जागरूक हो।साथ ही कहा कि हमारे देश मे 70प्रतिशत मौत दुर्घटना से होती हैं।किसी भी जागरूकता की बात हो हम अपने नौजवान बच्चों को आगे करते है।क्योंकि ये नौजवान ही देश की धरोहर है जिनके माध्यम से जागरूकता का वो मानक पैदा किया जा सकता है जो नियमो के अनुकूल के साथ साथ समाज के लिए भी आवश्यक होगा।यह जागरूकता अनवरत चलता रहेगा।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि अपर जिलाधिकारी योगेंद्र बहादुर सिंह ने कहा कि वास्तव में जो यातायात माह है वह हमारे घर परिवार समाज से शुरू होता है।घर परिवार के अभिभावक सतर्क हो जाए तो यातायात माह की सार्थकता सिद्ध हो जाएगी।यातायात के जो भी नियम है जैसे हेलमेट पहनना,सीटबेल्ट लगाना,नशा ना करना नशे में गाड़ी ना चलाना ये जो नियम है आप सभी स्वयं पालन करें और दूसरों को भी इसका पालन कराए इसी में यातायात माह की सफलता निहित हैं।कार्यक्रम में सभी के प्रति धन्यवाद आभार प्रगट करते एवं कार्यक्रम समापन की घोषणा करते ओबरा महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ प्रमोद कुमार ने अपने संबोधन में कहा कि समापन समारोह में बताए हुए नियमों को आत्मसात करें।यातायात पुलिस के बताने से पहले ही सभी युवा इसे अपने आदत में डालें।महाविद्यालयीय छात्र-छात्राओं में वर्णिका राय,फलक,सिद्धिका,पायल,आफरीन,कंचन दूबे, आकाश,श्यामबाबू केशरी ने यातायात जागरूकता सम्बंधित नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत कर सभी को जागरूक किया।कार्यक्रम में ओबरा इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ एस के मिश्र, ओबरा महाविद्यालय के प्राध्यापक गण में डॉ राधाकान्त पाण्डेय,डॉ किशोर कुमार सिंह,डॉ सुनील कुमार,डॉ संतोष सैनी,प्रो उपेन्द्र कुमार,डॉ विकास कुमार,डॉ विभा पाण्डेय व प्रमोद केशरी, महेश कुमार पाण्डेय महाविद्यालय के एनसीसी, एनएसएस,रोवर्स रेंजर छात्र-छात्राएं व उपस्थित रहें।साथ ही ओबरा थाना के चौकी इंचार्ज कृष्ण औतार सिंह सहित तमाम पुलिसकर्मी उपस्थित रहें।कार्यक्रम का सफल संचालन ओबरा इंटर कॉलेज के अधयापक अनिल कुमार सिंह ने किया।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!