भारत में कोरोना वैक्सीन की खोज का काम अंतिम चरण में

कोरोना महामारी से निपटने के लिए दुनियाभर में वैक्सीन की खोज का काम जारी है और कई खोज का काम अपने अंतिम चरण में है । भारत में भी वैक्सीन की खोज का काम अंतिम चरण में पहुंच गया है । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज शनिवार को देश की 3 प्रमुख लैब का दौरा किया और वहां वैक्सीन की खोज को लेकर जानकारी हासिल की ।

कोरोना वैक्सीन के जायजे पर निकले प्रधानमंत्री मोदी ने अपने इस दौरे का अंत पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के साथ किया । सीरम इंस्टीट्यूट में प्रधानमंत्री मोदी ने वैक्सीन की खोज को लेकर जायजा लिया और फिर वहां दिल्ली के लिए रवाना हो गए । सीरम में COVISHIELD वैक्सीन पर काम चल रहा है ।

दिल्ली से रवाना होने से पहले पीएम मोदी ने सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन टीम के साथ बातचीत को लेकर ट्वीट के जरिए जानकारी दी । पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की टीम के साथ अच्छी बातचीत हुई है ।उन्होंने अब तक अपनी प्रगति के बारे में विवरण साझा किया कि वे वैक्सीन निर्माण को लेकर आगे बढ़ने के लिए किस तरह की योजना तैयार की है । साथ ही उनकी विनिर्माण सुविधा का भी जायजा लिया ।

कोरोना वैक्सीन की खोज को लेकर किए जा रहे प्रयास का जायजा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के 3 बड़े लैब का दौरा किया । पीएम मोदी ने इससे पहले अपने दौरे की शुरुआत अहमदाबाद स्थित जायडस बायोटेक पार्क से की ।

जायडस बायोटेक पार्क का दौरा करने के बाद पीएम मोदी ने कहा कि वे कोरोना वैक्सीन बनाने के पीछे लगी टीम के काम की सराहना करते हैं और भारत सरकार वैक्सीन निर्माण की यात्रा में वैज्ञानिकों के साथ मुस्तैदी के साथ खड़ी है ।

पीएम मोदी की इस यात्रा पर जायडस कैडिला के चेयरमैन पंकज आर पटेल ने ट्वीट कर कहा कि पीएम मोदी वैश्विक कल्याण की कामना कर रहे थे ।पीएम मोदी का ये दृढ़ विश्वास है कि भारत कोविड वैक्सीन को लेकर जो कुछ भी कर रहा है उसका लाभ पूरी दुनिया को मिले। उन्होंने कहा कि आज आत्मनिर्भर भारत के सफर में 25,000 जायडस के कर्मचारी और 18,000 वैज्ञानिक लगातार प्रयास कर रहे हैं ।

जायडस बायोटेक पार्क के बाद पीएम मोदी हैदराबाद पहुंचे और यहां पर उन्होंने भारत बायोटेक के लैब में शोधकर्ताओं और वैज्ञानिकों से बात की तथा वैक्सीन की प्रगति के बारे में जानकारी हासिल की ।

भारत बायोटेक लैब हैदराबाद के जिनोम वैली में स्थित में हैं. भारत बायोटेक इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के साथ मिलकर कोरोना की वैक्सीन ला रही है ।इस वैक्सीन का नाम कोवैक्सीन है। लैब में पीएम नरेंद्र मोदी ने कंपनी के चेयरमैन और एमडी कृष्णा एल्ला, वैज्ञानिकों और कंपनी के वरिष्ठ मैनेजरों से बातचीत की । इन लोगों ने पीएम मोदी को वैक्सीन की प्रगति के बारे में जानकारी दी ।

प्रधानमंत्री मोदी भारत बायोटेक लैब में घंटाभर रहे । पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों को बधाई दी । उन्हें इस स्वदेशी वैक्सीन की प्रगति के बारे में बताया गया । शोधकर्ताओं से मुलाकात के बाद पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि उन्होंने यहां के वैज्ञानिकों को स्वदेशी कोरोना वैक्सीन के डेवलपमेंट में अब तक मिली प्रगति के लिए बधाई दी है । भारत बायोटेक की टीम आईसीएमआर के साथ मिलकर तेजी से काम कर रही है ।

भारत बायोटेक लैब का कोरोना वैक्सीन डेवलपमेंट का काम तीसरे चरण में पहुंच चुका है । इस वक्त 26 हजार लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल किया जा रहा है । भारत में कोरोना वैक्सीन का यह सबसे बड़ा ट्रायल है. वैक्सीन को भारत बायोटेक के बायो सेफ्टी लेवल-3 में बनाया जाएगा।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!