दिल्ली में बुलंदशहर रेप पीड़िता की इलाज के दौरान मौत, एसएसपी ने सीओ और दो थाना प्रभारी के खिलाफ की कार्रवाई

दिल्ली में बुलंदशहर रेप पीड़िता की आज इलाज के दौरान मौत हो गई । पीड़िता का राम मनोहर लोहिया अस्पताल में इलाज चल रहा था । बताया जा रहा है कि पीड़िता पर पेट्रोल डालकर जिंदा जलाने की कोशिश की गई थी । इसमें पीड़िता का शरीर लगभग 90 फीसदी तक जला गया था । रेप पीड़िता नाबालिग थी ।

रेप की ये घिनौनी वारदात तीन महीने पुरानी है। जिसके बाद पुलिस ने रेप के आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। वहीं पीड़िता को जिंदा जलाने की कोशिश में 7 लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है।

यह घटना बुलंदशहर के जहांगीराबाद थाना क्षेत्र की है। वहीं, एक अन्य घटना में गैंगरेप पीड़िता ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई न होने से परेशान होकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी । इन दोनों घटनाओं को लेकर पुलिस एक्शन में आ गई है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) संतोष कुमार सिंह ने क्षेत्राधिकारी और दो थाना प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई की है ।

एसएसपी ने अनूपशहर के सीओ अतुल चौबे को लाइन हाजिर कर दिया है । अनूपशहर के सीओ का चार्ज डिबाई की सीओ वंदना शर्मा को दिया गया है । साथ ही आरोपियों की ओर से पीड़िता के परिजनों पर दबाव बनाए जाने और पीड़िता के आत्मदाह कर लेने के मामले में जहांगीराबाद के थाना प्रभारी विवेक शर्मा को भी हटा दिया गया है ।

विवेक शर्मा की जगह रमाकांत को जहांगीराबाद का थाना प्रभारी बनाया गया है । गैंगरेप के आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं किए जाने के कारण अनूपशहर थाना क्षेत्र की निवासी पीड़िता ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी । इस मामले में अनूपशहर के थाना प्रभारी सुभाष सिंह पर भी एसएसपी ने लापरवाही के आरोप में कार्रवाई की है । सुभाष सिंह को थाना प्रभारी पद से हटा दिया गया है । सुभाष सिंह की जगह अरुणा राय को अनूपशहर के थाना प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई है।

जहांगीराबाद में हुई घटना के मामले में बीट सब इंस्पेक्टर और बीट कॉन्स्टेबल को भी सस्पेंड कर दिया गया है। बुलंदशहर में रेप पीड़िता को जिंदा जलाने के मामले में सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है । संजय, काजल, बनवारी, बदन सिंह, वीर सिंह, जसवंत सिंह, गौतम के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है । जहांगीराबाद पुलिस ने मामला दर्ज कर तहकीकात शुरू कर दी है ।

गौरतलब है कि अनूपशहर थाना क्षेत्र की निवासी एक युवती के साथ गैंगरेप की घटना हुई थी । इस मामले में शिकायत दर्ज कराए जाने के बावजूद पुलिस की ओर से आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं किए जाने से झुब्ध होकर पीड़िता ने 16 नवंबर को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी । एक अन्य मामले में जहांगीराबाद थाना क्षेत्र की पीड़िता के परिजनों पर आरोपियों की ओर से समझौते का दबाव बनाया जा रहा था । दबाव कारगर होता न देख आरोप है कि पीड़िता को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया गया । फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है ।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!