50 हज़ार की रिश्वत लेते एबीएसए गिरफ्तार

शामली में मेरठ से आई विजिलेंस की टीम ने 50 हज़ार रुपए की रिश्वत लेते हुए एबीएसए को रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। शामली पहुँची टीम ने महिला एबीएसए राजलक्ष्मी पांडेय को वस्त्र सप्लायर की शिकायत के बाद रिश्वत लेते हुए उनके आवास से रंगे हाथों गिरफ्तार किया है और भ्रषटाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर आगे की कार्यवाही में जुट गई है।

दरअसल आपको बता दें कि पूरा मामला जनपद शामली का है जहां पर मेरठ से आई विजिलेंस की टीम ने शामली के कैराना में एबीएसए के पद पर तैनात राजलक्ष्मी पांडे को 50 हज़ार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। विजिलेंस की टीम में 2 महिला इंस्पेक्टर सहित 10 लोगों की टीम ने छापेमारी के बाद एबीएसए को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया और एबीएसए को गिरफ्तार कर विजिलेंस टीम शामली कोतवाली पहुंची जहां पर एबीएसए राजलक्ष्मी पांडे से पूछताछ की गई।
विजिलेंस की टीम को कैराना खंड क्षेत्र के स्कूलों में बच्चो की ड्रेस सप्लाई करने वाले सत्यपाल रुहेला ने शिकायत की थी कि उससे कैराना खंड क्षेत्र की एबीएसए द्वारा रिश्वत की माँग की जा रही है । जब एन्टी करप्शन की टीम ने उनसे रिश्वत माँगने का कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि उन्होंने कैराना खंड क्षेत्र के करीब 35 स्कूलों में बच्चो को ड्रेस वितरण की थी जिसकी एवज में एबीएसए उनसे प्रति बच्चा 100 रुपए की माँग कर रही थी और कह रही थी तुम चाहे कैसी भी ड्रेस का वितरण करना बस 100 रुपए प्रति बच्चा मेरे रख लेना। ड्रेस वित्रणकर्ता की शिकायत के बाद एन्टी करप्शन की तीन ने महिला एबीएसए को रंगे हाथों पकड़ने का प्लान बनाया और लगातार शिकायकर्ता के संपर्क में रहे और रंगे हाथों पकड़ने के लिए एन्टी करप्शन की टीम दो बार पहले भी शामली आयी लेकिन उन्हें कोई सफलता नही मिली लेकिन तीसरी बार एबीएसए साहिबा को रंगे हाथों पकड़ लिया। एबीएसए महोदय के खिलाफ विजिलेंस की टीम ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत अभियोग पंजीकृत करा दिया है।

शिकायतकर्ता सत्यपाल रुहेला ने बताया कि मैंने बच्चों के ड्रेस का कपड़ा वितरण किया था। कैराना ब्लॉक में 30 – 35 स्कूलों में करीब 3 हज़ार बच्चों की ड्रेस दिया था जिसकी एवज़ एबीएसए बोल रही थी कि मेरी तरफ से कैसी भी ड्रेस दे दो हल्का भारी कैसा भी दे दो आप 100 रुपए बच्चा मेरे निकाल देना। मैंने तो गलत काम किया जो मानक के हिसाब से कपड़ा था वही दिया जो सरकारी मानक थे उसी हिसाब से कपड़ा दिया। शिकायतकर्ता ने बताया कि मेरे क्षेत्र में आप ड्रेस बांट रहे हो 100 रुपए बच्चा मुझे चाहिए और 100 रुपए पर बच्चा इन्होंने सभी ठेकेदार से लिया चार ठेकेदार हैं चारों से लिया है।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!