सोते मिले गुरुजी, 13 शिक्षकों व शिक्षामित्रों का रोका वेतन

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही (ब्यूरो)

गाजीपुर । कोरोना के चलते बच्चे विद्यालय नहीं आ रहे हैं और इधर शिक्षक विभागीय काम निबटाने की जगह विद्यालय में बैठे-बैठे सो रहे हैं। कुछ यही तस्वीर देखने को मिली प्राथमिक विद्यालय अलावलपुर कासिमाबाद में। इसके अलावा और तमाम अनियमिताएं मिलीं। बीएसए ने अलावलपुर सहित तीन और परिषदीय विद्यालयों के 13 शिक्षकों व शिक्षामित्रों का वेतन रोक दिया। साथ ही उन्हें नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण भी मांगा है।
बीएसए ने कासिमाबाद ब्लाक के चार परिषदीय स्कूलों प्राथमिक विद्यालय मेख, जहूराबाद, अलावलपुर व पूर्व माध्यमिक विद्यालय शक्करपुर कला का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान अलावलपुर में तैनात महिला शिक्षक सोती हुई मिलीं। इस पर बीएसए ने सभी को कड़ी फटकार लगाई। किसी भी विद्यालय में ई-पाठशाला का ठीक से संचालन नहीं हो रहा था और न ही विद्यालय समिति की बैठक कराई गई थी।कंपोजिट ग्रांट को नियमानुसार खर्च नहीं किया गया था। किसी भी विद्यालय में रनिग वाटर व मल्टीपल हैंडवास सिस्टम नहीं मिला। किसी भी विद्यालय में बच्चों की संख्या पर्याप्त नहीं थी। जो बच्चे भी पंजीकृत हैं, उनको भी ड्रेस अभी तक वितरित नहीं किया गया था। विद्यालय परिसर में साफ-सफाई का भी अभाव था।
*इनका रोका गया वेतन*
प्राथमिक विद्यालय मेख की प्रधानाध्यापक अर्चना के साथ दो सहायक अध्यापक अंशु व सुधा।
– प्राथमिक विद्यालय जहूराबाद के प्रभारी प्रधानाध्यापक मो. नसीम, शिक्षामित्र सुमन सिंह व रुखसाना बानो।
– प्राथमिक विद्यालय अलावलपुर के प्रधानाध्यापक शिवमंगल यादव, शिक्षामित्र पद्मश्री, आरती कुशवाहा व शबनम बानो
– पूर्व माध्यमिक विद्यालय शक्करपुर कला के प्रधानाध्यापक राजेश सिंह व सहायक अध्यापक प्रमोद यादव और सुमन देवी।

विद्यालय केवल बच्चों के लिए बंद किया गया है। शिक्षकों को नियमित आना है और विभागीय कार्य निबटाना है, लेकिन बहुत सारे शिक्षक निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं। ऐसे विद्यालयों का निरीक्षण कर लापरवाह शिक्षकों पर कार्रवाई की जा रही है।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!