राजगढ़ में किसानों की दुर्दशा, धान के समर्थन मूल्य से सस्ता बिक रहा चावल

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । स्थानीय विकासखंड राजगढ़ क्षेत्र में किसानों को धान का समर्थन मूल्य दिलाने के उद्देश्य से शासन के आदेश पर धान खरीद के लिए 15 अक्टूबर से क्रय केंद्र शुरू कर दिए गए हैं, मगर खुले बाजार में चावल काफी सस्ते दाम पर बिक रहा है। यहीं कारण है कि बाजार में धान के भाव गिर रहे हैं और आढ़ती व व्यापारी इसे औने पौने दाम पर खरीद रहे हैं। देखा जाए तो राजगढ़ क्षेत्र धान का कटोरा कहा जाता है। सरकार ने धान का समर्थन मूल्य 1868 रुपये प्रति क्विंटल घोषित कर रखा है और इसी दर पर सरकारी खरीद हुई हो रही है, मगर खुले बाजार पर नजर डाले तो हालात कुछ और ही नजर आ रहे हैं। जानकार बताते हैं कि सरकार द्वारा मुफ्त अनाज वितरण योजना के बाद चावल व गेहूं के दामों में भारी गिरावट आई है। सरकार द्वारा कार्डधारकों को एक माह में दो बार अनाज का वितरण किया जा रहा है, वही मुफ्त में मिलने वाला अनाज कार्ड धारकों के जरिए बाजारों में भेज दिया जा रहा है,मौजूदा समय में चावल के दाम ₹1500 रुपये प्रति क्विंटल तक आ गए हैं जबकि यह हालात इससे पहले कभी नहीं रहे, देखा जाए तो बाजारों में पिछले वर्ष चावल के दाम 2100 से2200 रुपये प्रति क्विंटल से कम नहीं था।मगर इस बार स्थिति बदली हुई नजर आ रही है,व्यापारी ₹1000 से लेकर ₹1200 प्रति क्विंटल की दर से किसान का धान खरीद रहे हैं जो कि किसानों को आगे की फसल की बुवाई के लिए पैसों की सख्त जरूरत है। ऐसे मे ओने-पौने दाम पर धान बेचने के लिए मजबूर है। और व्यापारी व आढ़ती इसका भरपूर फायदा उठा रहे हैं। इससे व्यापार पर विपरीत असर पड़ रहा है,और बाजार का सारा खेल बिगड़ता जा रहा है जिससे सबसे ज्यादा नुकसान किसानों को हो रहा है। इस संबंध में खाद्य विपणन अधिकारी ने बताया कि सभी क्रय केंद्र प्रभारियों को सीधे किसानों से ही धान की खरीद करने के आदेश दिए गए हैं। किसान मानक के अनुरूप अपना धान तैयार कर केंद्र पर ही लाकर बेचे और सरकार द्वारा निर्धारित समर्थन मूल्य का लाभ उठाएं।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!