ग्राम शिक्षा समिति के माध्यम से अध्यापकगण अपने स्कूलों का कराएँ कायाकल्प : डीएम

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने आज कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित शहरी स्कूल कायाकल्प की बिंदुवार समीक्षा बैठक किया।

इस दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि “हकीकत में शिक्षा अनमोल है, शिक्षा प्राप्त करने से खुद इन्सान के बहुत सारे मामले सुलझ जाते हैं, शिक्षा से समाज के चतुर्दिक विकास के सभी रास्ते खुले रहते है, शिक्षा के बिना विकसित व अच्छे समाज की कल्पना कभी नही की जा सकती। ग्रामीण स्कूलों के साथ ही शहरी क्षेत्रों में स्थापित परिषदीय विद्यालयों का कायाकल्प किया जाय और हर हाल में गुणवत्ता का पूरा ध्यान दिया जाय। वहीं बाल केन्द्रित नजरिया, जनसहभागिता, स्वच्छ एवं स्वस्थ्य वातावरण, बच्चे पढ़े-बच्चे बढ़ें व शिक्षा की निरन्तरता पर विशेष ध्यान दिया जाय। स्कूल परिसर में टायइलिंग, पेन्टिंग/वाल पुट्टी, बाला पेन्टिंग, स्वच्छ शौचालय, स्वच्छ पेयजल, रनिंग वाटर, पाथवे, बिजली, किचन, समतलीकरण, रनिंग, वाटर के साथ ही पानी निकास यानी सोखते का प्रबन्ध किया जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि जो अध्यापकगण अपने स्कूल को बेहतर बनाने चाहते हैं, वे ग्राम शिक्षा समिति के माध्यम से अपने स्कूलों का काम पूरा करायें। ग्राम शिक्षा निधि में पर्याप्त धनराशि, उनके मांग के अनुरूप उपलब्ध कराने की व्यवस्था कर दी जायेगी।

इस मौके पर जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम, अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह, बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ0 गोरखनाथ पटेल, खण्ड शिक्षा अधिकारीगण व शहरी इलाकों के परिषदीय स्कूलों के अध्यापकगण मौजूद रहे।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!