खेतो मे पराली जलाने के बजाय, गौ आश्रय स्थल में करें दान

जनपद न्यूज़ ब्यूरो

मिर्जापुर । खेत-खलिहान में फसल अवशेष-पराली जलाने से रोकने के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण द्वारा किसानों को अब जागरूक किया जाएगा

जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल ने फसल अवशेष या पराली को जलाने की बजाए गौ आश्रय स्थल को दान देने के लिए किसानों को प्रेरित किया है। कहा कि पराली दान देना चाहते हैं तो एकीकृत कंट्रोल रूम 05442-256357 पर सूचना दें। सूचना मिलने के बाद किसान के यहां से पराली उठा ली जाएगी। बिना कंबाइन हार्वेस्टर मशीन का प्रयोग करने वाले लोगों का मशीन सीज होगा।

उप निदेशक कृषि डॉ0 अशोक उपाध्याय ने बताया कि फसल अवशेष जलाने से पर्यावरण प्रदूषित होता है। फसलों की वृद्धि एवं उत्पादन प्रभावित होता है। खेत में पाये जाने वाले सभी प्रकार के मित्र कीटों के मर जाने से खेत की उर्वरा शक्ति क्षीण हो जाती है। बताया कि कृषि भूमि का क्षेत्रफल दो एकड़ से कम होने पर 2500 रुपये प्रति घटना, दो एकड़ से अधिक कितु 5 एकड़ तक होने पर 5000 रुपये प्रति घटना और 5 एकड़ से अधिक होने पर 15000 रुपये प्रति घटना अर्थदंड लगेगा। दोबारा पराली व फसल अवशेष जलाने पर एफआइआर दर्ज होगा।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!