एक्सीडेंट में घायल पत्नी को लेकर भटकता रहा पति, न पीएचसी में मिला इलाज, न पहुंची एम्बुलेंस

जयनाथ मौर्या (संवाददाता)

मधुपुर । स्थानीय बाजार के उत्तरी त्रिमुहानी के समीप ट्रक के धक्के से बाइक पर बैठी सुशीला (35) पत्नी मुन्ना निवासी तिलौली, घोरावल बुरी तरह घायल हो गयी । जबकि बाइक चला रहा पति मुन्ना बाल-बाल बच गया । घटना के बाद पति गंभीर रूप से घायल अपनी पत्नी को लेकर तत्काल मधुपुर पीएचसी पहुंचा । लेकिन बन्द होने के कारण कोई सहायता नही मिल सकी। अन्य कोई चारा न देखकर वह एम्बुलेंस के लिये कॉल किया । लेकिन काफी देर तक इंतजार करने के बाद भी एम्बुलेंस नही पहुंचा । सिर से लगातार रक्तस्राव होने के कारण वह अंत में ऑटो में लादकर जिला अस्पताल के लिए निकल पड़ा ।

अपनी पत्नी की स्थिति को देखते हुए मुन्ना काफी घबराया हुआ था । बताया जा रहा है कि
पत्नी सुशीला के सिर से तेजी से निकल रहे खून को वह हाथ से पकड़ कर लगातार रोकने की कोशिश कर रहा था । मुन्ना प्राइवेट अस्पताल के डॉक्टर से टांका, पट्टी लगा कर खून बन्द करने की गुहार करता रहा लेकिन एक्सिडेंटल केस में कोई हाथ लगाने को तैयार नही हुआ ।बलिहाजा वह हाथ से रक्तस्राव को रोकने की कोशिश करते हुए ऑटो से रावर्ट्सगंज के लिये निकल गया । कोरोना के कारण बन्द पड़ी मधुपुर पीएचसी आपात काल में भी मिलने वाली प्राथमिक उपचार से बंचित होने के कारण अब लोगों का आक्रोश बढ़ता जा रहा है । बतादें कि सुकृत से रावर्ट्सगंज के मध्य मधुपुर में पीएचसी ही एकमात्र इमरजेंसी सेवा के लिये विकल्प है । लोगों का कहना है कि ऐसे में जिम्मेदारों का रवैया काफी पीड़ादायक साबित हो रहा है ।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!