अपनी दुर्दशा पर आँसू बहा रहा किसान हाट मंडी

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । स्थानीय विकास खंड राजगढ़ क्षेत्र के विशनपुरा गांव मे लाखो रुपये की लागत से बनाई गई किसान हाट मंडी अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है। जबकि अपनी उपज को बेचने के लिए किसानों को दर-दर भटकना पड़ रहा है। भारत सरकार द्वारा किसानों की आय दोगुनी करने का किए गए वादे को पूरा करने के लिए तरह-तरह की योजनाएं चलाई जा रही है, वहीं लाखों रुपए की लागत से लगभग एक दशक पूर्व बिशनपुरा गांव में क्षेत्र के किसानों द्वारा पैदा की गई सब्जियां व अनाज बेचने के लिए समाज कल्याण द्वारा गल्ला मंडी बनाने का कार्य शुरू किया गया। परंतु आधा अधूरा किए गए काम को पूरा दिखाकर विभाग द्वारा भुगतान करा लिया गया। दशक पहले बनी किसान मंडी अब खंडहर में तब्दील हो रही है, जिससे क्षेत्रीय किसानों में नाराजगी दिखाई दे रही है।

गांव के किसानों का कहना है कि “मंडी भवन का निर्माण तो किसी तरह करा दिया गया है लेकिन लगभग 10 वर्ष बीत जाने के बाद भी मंडी का संचालन नहीं किया गया। जिससे सरकारी धन का दुरुपयोग साफ दिखाई दे रहा है, वहीं क्षेत्र के किसान अपने को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं।”

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!