गांधी जयंती पर वामदलों ने किया सोनभद्र व हाथरस की घटना का किया विरोध

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आज वामदलों भाकपा, माकपा, भाकपा (माले), राष्ट्रीय लोक दल, जनता दल (सेकुलर), अखिल भारतीय नौजवान सभा, आल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन, उत्तर प्रदेश खेत मजदूर यूनियन ने महिला हिंसा की बढ़ती घटनाओं को रोक पाने में नाकाम उ0प्र0 के मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग की है। आज 2 अक्टूबर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जन्म दिवस के अवसर पर स्थानीय नेहरू पार्क में धरना व विरोध सभा करते हुए सोनभद्र की निर्भया व हाथरस की बेटी के लिए न्याय की मांग किया।

इस दौरान रालोद के जिलाध्यक्ष संतोष सिंह पटेल ने कहा कि “जब प्रदेश और देश हाथरस की 19 वर्षीया बेटी के साथ हुई हैवानियत व मौत का मातम मना रहा था, तभी सोनभद्र की निर्भया सहित बलरामपुर में एक और 22 वर्षीय दलित बेटी के साथ गैंगरेप व मौत की सामने आयी घटना ने सभी को स्तब्ध कर दिया। इन तीनों घटनाओं में दलित बेटियों को हवस व हैवानियत का निशाना बनाया गया है।”

आर0के0शर्मा ने कहा कि “सोनभद्र व हाथरस मामले में पुलिस व प्रशासन की भूमिका शक के दायरे में है, क्योंकि हाथरस घटना में एफआईआर दर्ज करने से लेकर पीड़िता के शव को सुबह का इंतजार किये बिना रात के अंधेरे में और परिवार की अनुपस्थिति में जिस तरह पुलिस द्वारा खुद जला देने की जल्दबाजी की गई, उससे लगता है कि पहले तो लीपापोती की कोशिश हुई और फिर सबूतों को नष्ट कर दिया गया। वहीं सोनभद्र में भी पुलिस द्वारा अपराधियों को बचाने के लिए सुबूतों के साथ छेड़छाड़ की गई। सच सामने लाने के लिए न्यायिक जांच होनी चाहिए और अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा तो मिले ही साथ ही दोषी अधिकारियों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई हो। जहां तक पूरे प्रदेश की बात है, तो खुद सरकारी रिकॉर्ड गवाह है कि दलित महिलाओं के साथ अपराध के मामले में योगी शासित उत्तर प्रदेश देशभर में अव्वल है। ऐसे में अब वक्त मुख्यमंत्री से कानून व्यवस्था को ठीक करने की मांग करने का नहीं है, बल्कि मुख्यमंत्री व सरकार को ही अलविदा करने का है। बेटियों को बचाने के लिए योगी सरकार को हटाना होगा। वामपंथी दलों के नेताओं ने मुख्यमंत्री से उत्तर प्रदेश की गद्दी से इस्तीफे की मांग की है।”

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!