बदहाल स्थिति में पहुँचा जनपदीय ड्रग वेयर हाउस, ताले खुलने पर बाहर आएंगे कई बड़े राज

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

● जर्जर और बदहाल स्थिति में पहुँचा जनपदीय ड्रग वेयर हाउस

● जनपदीय ड्रग वेयर हाउस का कभी नहीं खुलता ताला

● ड्रग वेयर हाउस में तैनात फार्मासिस्ट को अब तक नहीं मिला चार्ज

● चार्ज लेने के लिए लगातार उच्चाधिकारियों से पत्राचार कर रहा है तैनात फार्मासिस्ट

सोनभद्र । राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन का स्टोर अलग से स्थापित किए जाने के शासनादेश के क्रम में जिले में जनपदीय ड्रग वेयर हाउस का निर्माण लाखों रुपये खर्च कर जिला मुख्यालय स्थित लोढ़ी गाँव रोड पर कराया गया था ताकि यहाँ पर दवाओं के भंडारण के साथ वितरण भी किया जा सके। इसके लिए लोढ़ी में जिला अस्पताल से महज 300 मीटर दूर जनपदीय ड्रग वेयर हाउस में पूरा सिस्टम लगाया गया, जिसमें बिजली कनेक्शन से लेकर बड़ा जनरेटर व ऑफ़िस फर्नीचर भी दिए गए ताकि वहाँ पर तैनात सभी स्टॉफ बैठ कर काम कर सकें।

2018 में तत्कालीन सीएमओ द्वारा जारी पत्र में नवनिर्मित जनपदीय ड्रग वेयर हाउस के स्टोर का कार्य संपादित करने के लिए चोपन के एक फार्मासिस्ट की नियुक्ति की गई थी लेकिन सीएमओ के आदेश के बावजूद जनपदीय ड्रग वेयर हाउस में न तो फार्मसिस्ट को वहाँ का चार्ज मिल सका और न ही काम बल्कि उन्हें दूसरे-दुसरे कामों में लगा दिया गया।

जनपद न्यूज़ live के हाँथ लगे एक महत्वपूर्ण दस्तावेज से साफ जाहिर होता है कि फार्मासिस्ट को चार्ज न देने के पीछे कोई बड़ा खेल हो सकता है, जो जाँच के बाद ही सामने आ सकेगा।

सूत्रों की मानें तो एक फार्मासिस्ट ने मुख्य चिकित्साधिकारी को अवगत कराते हुए बताया कि कुछ प्रकरण में देखा गया है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से संबंधित सामग्री का क्रय भंडारण एवं भुगतान स्टोर के फार्मासिस्ट एवं वरिष्ठ चिकित्साधिकारी स्टोर के सत्यापन के बगैर जिला कार्यक्रम प्रबंधक (डीपीएम) द्वारा कर लिया गया है जो गंभीर वित्तीय अनियमितता को दर्शाता है।

वहीं सूत्रों की मानें तो जनपदीय ड्रग वेयरहाउस की एक चाभी पड़ोस में दे दिया गया है ताकि समय-समय पर उसकी निगरानी की सके।

सूत्रों की मानें तो जनपदीय ड्रग वेयरहाउस में लगे समर्सिबल पड़ोसियों के हवाले कर दिया गया है, जहाँ पूरा मुहल्ला पानी भरता है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक दुर्व्यवस्थाओं के चलते समर्सिबल भी खराब हो चुका है जिसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। इस पूरे मामले पर कोई भी अधिकारी कैमरे पर बोलने को तैयार नहीं।

कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि जिले का एकमात्र जनपदीय ड्रग वेयर हाउस भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया है। माना यह जा रहा है कि जिस दिन जाँच में जनपदीय ड्रग वेयर हाउस के ताले खुलेंगे तो कई लोगों की कलई भी खुल जाएगी।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!