अयोध्या ढांचा विध्वंस पर 28 साल बाद आया फैसला, चप्पे-चप्पे पर फोर्स रही तैनात

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । अयोध्या में विवादित ढांचे को ध्वस्त करने के मामले में बुधवार को फैसला आ गया है। सीबीआई की विशेष अदालत ने फैसला सुनाते हुए, इस मामले में वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार समेत सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया है। इसे लेकर जिले की पुलिस को हाई अलर्ट कर दिया गया है। जिले में संवदेनशील स्थानों और कस्बों में पुलिस पिकेट लगाई गई थी।

बताते चलें कि मंगलवार को ही जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जिले को 4 जोन व 21 सेक्टर में बांट कर जोनल तथा सेक्टर मजिस्ट्रेटों की तैनाती कर दी थी और सभी मजिस्ट्रेटों को सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक अपने निश्चित स्थानों पर रहते हुए उपद्रवियों पर निगाह रखने का निर्देश दिया गया था जिससे सांप्रदायिक सौहार्द कायम रह सके।

इसी क्रम में नगर के बढ़ौली चौक पर रॉबर्ट्सगंज कोतवाली प्रभारी अंजनी कुमार राय, महिला एसआई शिवानी मिश्रा तथा रॉबर्ट्सगंज कस्बा चौकी प्रभारी योगेंद्र सिंह पुलिस बल के साथ नगर भ्रमण कर स्थिति का जायजा लिया और लोगों से सीबीआई कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए शांति व्यवस्था कायम रखने की अपील की।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!