कोरोना से शिक्षक की मौत पर बिफरे प्राथमिक शिक्षक, बोले- मृत शिक्षक को मिले कोरोना योद्धा का दर्जा

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । कोरोना से शिक्षक की मौत के बाद शासन-प्रशासन और शिक्षा विभाग के खिलाफ शिक्षकों का गुस्सा सातवें आसमान पर है। मामले में उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ सोनभद्र ने रोष जताते हुए कहा कि कोरोना काल में जिन शिक्षकों की ड्यूटी लगाई जा रही है उन्हें सुरक्षा किट तक उपलब्ध नहीं कराई जा रही। जबकि मांग बार-बार उठाई गई लेकिन अफसर कान बंद कर बैठे रहे। संगठन ने मृतक शिक्षक को कोरोना योद्धा घोषित करते हुए परिजनों को ₹50/- लाख मुआवजा देने की मांग की है।

उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष योगेश ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि “पहले से ही सुरक्षा किट उपलब्ध कराए जाने आदि की मांग की जा रही थी लेकिन विभाग और प्रशासनिक अधिकारियों ने कोई ध्यान दिया। शिक्षक लगातार जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं। अपनी ड्यूटी का निर्वहन करते हुए खंड शिक्षा नगवाँ अन्तर्गत प्राथमिक विद्यालय देवरीमय देवरा के शिक्षक इंदल कुमार और उनकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव हो गए।शिक्षक इंदल कुमार की इलाज के दौरान वाराणसी में मौत हो गयी। जबकि इनकी पत्नी का वाराणसी हॉस्पिटल में अभी भी इलाज चल रहा है। इनके एक बेटा जो स्नातक तथा एक बेटी जो इंटरमीडिएट में पढ़ाई कर रहे हैं। शिक्षक इंदल कुमार प्रतिदिन विद्यालय जाकर कार्य कर रहे थे इसलिए सरकार को उन्हें कोरोना योद्धा घोषित कर उनके परिवार को सरकार द्वारा निर्धारित सहयोग राशि ₹50 लाख देना चाहिए, जिससे उनके परिवार का सही ढंग से जीवन यापन हो सके। हम शिक्षकों के साथ शासन-प्रशासन एवं विभाग सौतेला व्यवहार कर रहा है क्योंकि एक तरफ अन्य विभागों के सभी कर्मचारियों के लिए 50% की उपस्थिति साथ ही ऑनलाइन कार्य की अनिवार्यता की गई ही वहीं दूसरी तरफ शिक्षकों के लिए 100% उपस्थिति अनिवार्य की गई है, जबकि अभी विद्यालय में बच्चे भी नहीं आ रहे हैं। इस तरह का जानलेवा शोषण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, क्योंकि इस कोरोना महामारी में सभी की जान बचाना शासन-प्रशासन की पूर्णतया जिम्मेदारी है।”

जिला महामंत्री रवींद्र नाथ चौधरी ने कहा कि “इस कोरोना काल में हमारे सभी शिक्षक/शिक्षिकाएं दूर-दराज विद्यालयों में प्रतिदिन विद्यालय जा रहें है। वहीं शिक्षिकाएं अपने छोटे बच्चों को भी विद्यालय ले जाने को मजबूर हैं, जिससे शिक्षक/ शिक्षिकाओं के साथ-साथ उनके परिवार को संक्रमण होने का खतरा बढ़ गया है। जिसके सम्बन्ध में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को सभी शिक्षकों के विद्यालय में उपस्थिति को शासनादेश शिक्षा निदेशक (बेसिक), उ0 प्र0 लखनऊ के पत्रांक-शि0नि0(बे0)/38938-39031/2020-21 08/09/20 के तहत 50% करनी चाहिए।”

इस मौके पर उपस्थित संरक्षक जय प्रकाश राय, संगठन मंत्री प्रशांत चतुर्वेदी, जिला उपाध्यक्ष उमेश चतुर्वेदी, ब्लॉक अध्यक्ष मनीष शर्मा, प्रचार मंत्री मोहित लांबा, संगठन मंत्री अंकित शुक्ला, उपाध्यक्ष राजेश जायसवाल, संगठन मंत्री नवीन गुप्ता एवं अन्य शिक्षक साथी मौजूद रहे।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!