कृषि बिल को लेकर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने राष्ट्रपति से की मुलाकात

कृषि बिल को लेकर देश में काफी विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है । सड़क से लेकर संसद तक किसानों और विपक्षी दलों के जरिए विरोध किया जा रहा है । इस बीच कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की । विपक्षी दल विवादास्पद कृषि विधेयकों के खिलाफ विरोध जारी रखे हैं । इन विधेयकों को संसद में मंजूरी दे दी गई है । राज्यसभा में विपक्ष के नेता आज़ाद और राष्ट्रपति के बीच बैठक विपक्षी दलों द्वारा संसद की र्कायवाही का बहिष्कार शुरू करने के एक दिन बाद हुई है ।

गुलाम नबी आजाद ने राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद बताया कि उन्होंने राष्ट्रपति से मुलाकात की है और कहा है कि सब राजनीतिक दलों से बात करके ही यह बिल लाना चाहिए था । दुर्भाग्य से ये बिल न सेलेक्ट कमेटी को भेजा गया और न ही स्टैंडिंग कमेटी को भेजा गया ।पांच अलग-अलग प्रस्ताव दिए गए थे ।

किसान बिलों को लेकर विपक्ष के जरिए लगातार प्रदर्शन किया जा रहा है । गुलाम नबी आजाद ने कहा कि किसान अपना खून-पसीना एक करके अनाज पैदा करते हैं । किसान हिंदुस्तान की रीढ़ की हड्डी हैं । वहीं राष्ट्रपति से मिलकर बताया कि किस तरह से किसान बिल पास किए जाएं ।

इससे पहले राज्यसभा में ध्वनि मत से कृषि बिल पास होने को लेकर हंगामा हुआ था । जिस पर मंगलवार को राज्यसभा में गुलाब नबी आजाद ने कहा कि पिछले दिनों जो कुछ भी हुआ, मुझे नहीं लगता कि उससे कोई खुश है । गुलाम नबी ने कहा कि ये हमारा परिवार है और सभापति इस परिवार के मुखिया हैं । घर में भी झगड़े होते हैं । टाइम की कमी ही सौतन बन गई है । इसी कारण ये घटना हो गई ।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!