धान की फसल सूखने के कगार पर,किसान चिंतित

मुमताज़ खान संवाददाता


सुकृत। मौसम की बेरुखी के चलते धान की फसल पर संकट खड़ा हो गया है। खेत सूखने की कगार पर है। अगर यही हालात कुछ दिन और रहे तो तकिया सुकृत हरैय्या सहित न्याय पंचायत बट बन्तरा के सभी गांव में धान की फसल का उत्पादन प्रभावित होगा। धान को बचाने के लिए अब किसानों के पास कोई सहारा नही बचा है।
न्याय पंचायत बट बन्तरा गांवों में करीब हजारो हेक्टेयर में किसानों ने धान की रोपाई की है, लेकिन मौसम की बेरुखी और अल्पवर्षा के चलते खेतों में लगी धान सूखने की कगार पर पहुंच गई है। किसानों की मानें तो वह जैसे तैसे नहर और ट्यूबवेल से मिलने वाले पानी से धान को सूखने से बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

जल्द ही हालात नहीं सुधरे तो धान का उत्पादन प्रभावित होगा। सावन तो पहले भी सूखा बीत गया था, भादों में बारिश होने से किसानों ने राहत की सांस ली थी, लेकिन इस हफ्ते बारिश नहीं हुई तो स्थिति बहुत खराब होगी । हालात यह हैं कि खेतों में जो थोड़ा बहुत बारिश का पानी बचा था वह भी सूख गया है ।
धंधरौल बांध से निकली घाघर नहर से मधुपुर रजवाहा की सिंचाई होती है पर सिंचाई विभाग की लापरवाही से टेल से लगे खेतो तक नहर का पानी नही पहुँच पाया है। सुकृत क्षेत्र के इंदर यादव श्यामा यादव कमलेश सिंह, रियाज़ खान एकबाल अहमद अशोक सिंह सुरेंद्र सिंह सुरेंद्र कोल धर्मेंद्र चौहान सहित सैकड़ों किसानों टेल तक सिंचाई का पानी पहुचाने की मांग की है।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!