गुरमा फीडर से जुड़े उपभोक्ताओं ने बिजली की बदहाल स्थिति को लेकर जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

घनश्याम पांडेय/विनीत शर्मा (संवाददाता)

चोपन। स्थानीय थाना क्षेत्र के गुरमा फीडर की बदहाल बिजली आपूर्ति को लेकर क्षेत्र के किसानों और बिजली उपभोक्ताओं में लगातार आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है । जहां बीते बुधवार को क्षेत्र के दर्जनों गांवों के किसानों और उपभोक्ताओं ने सलखन के रामलीला मैदान में बैठक कर बिजली विभाग की मनमानी पर चिंता जताई थी और आज पुनः शुक्रवार को क्षेत्र के किसानों और उपभोक्ताओं का एक प्रतिनिधिमंडल जिलाधिकारी से मुलाक़ात करके गुरमा फीडर की बदहाल और जर्जर हो चुकी बिजली आपूर्ति को लेकर समस्याओं से अवगत कराते हुए समस्या का जल्द ही समाधान न होने पर निर्णायक स्तर तक आंदोलन करने की बात कही ।

प्रतिनिधिमंडल मे मुख्य रूप से श्यामा चरण गिरी ने बताया कि वर्तमान समय में विगत कई माह (कोरोना संकट काल के शुरुआती लाक डाउन के समय )से ही बिजली विभाग की घोर लापरवाही के चलते पटवध से लगायत बसुहारी तक लगभग सैकड़ों गांव जिसमें कई गांव नक्सल प्रभावित गांव भी आते हैं जहां बिजली आपूर्ति की स्थिति बेहद दयनीय व जर्जर है।

गुरमा फीडर से लगायात संपूर्ण क्षेत्र में खेती सिंचाई और पीने के पानी का हाहाकार मचा हुआ है जिसके चलते किसानों की फसल सूखने की स्थिति में है। गुरमा फीडर कि इस चल रहे बदहाल बिजली आपूर्ति की शिकायत बिजली विभाग के अधिकारियों को उपभोक्ताओं द्वारा बार-बार सूचना देते रहने के बावजूद विभाग द्वारा इस क्षेत्र की अनदेखी किया जा रहा है और संबंधित अधिकारियों की गैर जिम्मेदाराना हरकत से और समय से वर्षा ना होने से इस पूरे क्षेत्र के लोगों में हाहाकार मचा हुआ है और लोगों में आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है। जिससे बदहाल बिजली आपूर्ति को लेकर हम सभी जिलाधिकारी को अवगत कराने के साथ-साथ बिजली विभाग के संबंधित उच्च अधिकारियों को भी अवगत कराया गया और इस बदहाल स्थिति को रोकने के लिए मंडलायुक्त विंध्याचल मंडल, प्रमुख सचिव उत्तर प्रदेश सरकार और प्रबंध निदेशक पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम वाराणसी को भी पत्राचार किया जा रहा है अगर इन समस्याओं का जल्द ही समाधान नहीं किया जाता है तो हम गुरमा फीडर के तमाम गांव के उपभोक्ताओं और किसानों द्वारा किसी भी समय निर्णायक स्तर तक आंदोलन किया जा सकता है जिसकी सूचना आज जिलाधिकारी को दी गई है हमारी मांगे हैं कि गुरमा फीडर से जुड़े सभी गांव को सरकार की मनसानुरूप 18 से 20 घंटे बिजली बिना किसी कटौती के सप्लाई की जाए, क्षेत्र में जर्जर हो चुके तारों वह खंभों को बदला जाए और जगह-जगह लटकते तारों को दुरुस्त किया जाए जिससे सभी लोगों को बिजली प्राप्त हो सके,क्षेत्र में ही शिकायत ऑफिस की व्यवस्था हो और ऑन ड्यूटी कर्मचारियों का संपर्क नंबर बिजली उपभोक्ताओं के लिए सार्वजनिक हो इसके साथ ही मारकुंडी घाट के नीचे की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए किसानों व खेतिहरों के हित में सोन पंप का विस्तारीकरण किया जाए और किसानों के खेत तक पानी पहुंचाया जाए इन्हीं समस्याओं को लेकर के हम आज एक पत्रक जिलाधिकारी को और संबंधित विभाग के अधिकारियों को भी भेजा गया है समय रहते हमारी इन समस्याओं का समाधान जल्द से जल्द नहीं किया गया तो इस कोरोना काल में ही हम आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी वही प्रतिनिधिमंडल में विरेंद्र दुबे,राजकुमार उर्फ टप्पू, संतोष पटेल आदि लोग मौजूद रहे।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!