वृक्षारोपण कर अमर स्मृतियों में संजोये गये, ओमप्रकाश त्रिपाठी

राजकुमार गुप्ता (संवाददाता)

“शिक्षा के अद्वितीय स्तम्भ थे ओमप्रकाश त्रिपाठी”

घोरावल। ओमप्रकाश त्रिपाठी राजकीय इण्टर कालेज घोरावल में दस वर्षों तक गणित के प्रवक्ता रहे,गणित अध्यापक के रूप में उस समय उनकी ख्याति दूर-दूर थी।उनके पढाये शिष्य जो आज विभिन्न पदों पर आसीन हैं,उनकी शिक्षण विधा के बारे में याद करके प्रशंसा करते नहीं थकते।
प्रति वर्ष वे घोरावल आते थे और अपने शिष्यों से मुलाकात करते थे।संपूर्ण सेवाकाल उन्होंने सोनभद्र को शक्तिनगर,कोन,पिपरी,व डायट को प्रदान किया। उनके पुत्र दीनबन्धु त्रिपाठी जो वर्तमान में घोरावल ब्लाक के गणित के एआरपी हैं,उनके द्वारा जलायी गयी लौ को अनवरत प्रज्वलित किये हुये हैं,राज्य स्तर पर सोनभद्र का नाम कई बार रोशन कर चुके हैं।

वृक्षारोपण कर अमर स्मृतियों में संजोये गये ओमप्रकाश त्रिपाठी
यूटेक पेन्शन बहाली मंच के त्वाधान में पू.मा.वि.विसुन्धरी में स्व.ओमप्रकाश त्रिपाठी को स्मृतियों में संजोने हेतु वृक्षारोपण किया गया,जिसके मूल में यह बात रही कि जब यह वृक्ष बडे होंगे तब इनके फल, फूल जब रसास्वादन हेतु उपलब्ध होंगे ,तो बरबस ही इस पुण्यात्मा की याद आयेगी।
इसी को आधार मानकर एक नेक पहल यूटेक पेन्शन बहाली मंच चला रहा है ,जिससे जनमानस को जोडकर पर्यावरण को समृद्ध करते हुये पुरानी पेन्शन की मांग को आगे बढा रहा है।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!