परिषदीय विद्यालयों के चार शिक्षक बर्खास्त, FIR का आदेश

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जहाँ एक तरफ भ्रष्टाचार के मामले पाए जाने पर जिलाधिकारी द्वारा ताबड़तोड़ कार्यवाही करते हुए तीन दर्जन से अधिक सरकारी/संविदा कर्मचारियों की सेवा समाप्त कर दी है, वहीं वर्ष 2018 की एक जाँच अपर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित त्रिस्तरीय टीम द्वारा किया जा रहा था। जिसकी जाँच रिपोर्ट बेहद चौकानें वाला आया। एडीएम ने जाँच का खुलासा करते हुए कहा कि दिव्यांग शिक्षकों की शिक्षक भर्ती में सबसे बड़ी गड़बड़ी यह पायी गयी है कि कूटरचित तरीके से फर्जी दिव्यांग प्रमाण पत्र लगाए गए थे जो जाँच में पकड़ में आया। अपर जिलाधिकारी ने इस पूरे मामले पर सख्त कार्यवाही करते हुए चारों शिक्षकों की सेवा समाप्त करते हुए एफआईआर के आदेश दे दिए हैं। इस कार्यवाही से शिक्षा विभाग में खलबली मच गई है।

पूरे मामले पर एडीएम योगेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि “त्रिस्तरीय टीम की जाँच के दौरान द्वारा खंड शिक्षा क्षेत्र रॉबर्ट्सगंज अन्तर्गत प्राथमिक विद्यालय अमौली के सहायक अध्यापक जय प्रकाश, प्राथमिक विद्यालय बघुआरी की सहायक अध्यापिका माया शुक्ला और प्राथमिक विद्यालय निपराज के सहायक अध्यापक राजेश कुमार द्विवेदी तथा खंड शिक्षा क्षेत्र म्योरपुर अन्तर्गत प्राथमिक विद्यालय रासपहरी की सहायक अध्यापिका सरला देवी की दिव्यांगता 40 प्रतिशत से कम होने के कारण दिव्यांगता परीक्षण में अयोग्य घोषित करते हुए सेवा समाप्ति कर दी गयी है तथा संबंधित एबीएसए को उक्त चारों शिक्षकों पर प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने का निर्देश दे दिया गया है।”

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!